2022 तक हमारे किसानों की आय दोगुनी होनी चाहिए, अब धीरे-धीरे आगे बढ़ने का समय नहीं है

11
SHARE

आज केंद्र की एनडीए सरकार के तीन साल पूरा होने के मौके पर असम के ढोला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एशिया के सबसे लंबे पुल की शुरुआत करने के बाद अब धेमाजी में कृषि अनुसंधान केंद्र की आधारशिला रखी। उन्‍‍‍‍‍‍‍‍होंने ढोला और धेमाजी में जनसभा को संबोधित किया। अपने तीन साल के कार्यकाल की उपलब्धियों को पूर्व पीएम अटल बिहारी बाजपेयी को समर्पित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि उन्‍होंने तीन साल में अटल जी के सपने को पूरा किया है।

धेमाजी में कृषि अनुसंधान केंद्र की आधारशिला रखने के बाद प्रधानमंत्री ने कहा, ‘2022 तक हमारे किसानों की आय दोगुनी होनी चाहिए। अब धीरे-धीरे आगे बढ़ने का समय नहीं है।’ उन्‍होंने आगे कहा कि इतने बड़े देश के लिए तीन साल का वक्‍त बहुत कम है। वेस्‍ट से बेस्‍ट बनाने की दिशा में काम बढ़ाने की बात कहते हुए उन्‍होंने कहा, कृषि में आधुनिकता के साथ ऊंचाई पर जाना है। हमें एवरग्रीन रिवोल्‍यूशन की ओर बढ़ना है। नॉर्थ ईस्‍ट में जैविक खेती की संभावनाएं बताते हुए पीएम ने कहा कि किसानों को सॉयल हेल्‍थ कार्ड का अभियान शुरू करना होगा। उन्‍होंने आगे बताया कि देश में पहले 15 लैब थीं जो आज 9 हजार से भी अधिक हैं।

वहीं ढोला में पुल का उद्घाटन कर उन्होंने कहा कि पांच साल से जिस पुल का इंतजार किया जा रहा था वह अब तैयार हुआ है और 2004 में अगर अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार दोबारा जीतकर आई होती तो यह ब्रिज आपको 10 साल पहले मिल गया होता। सरकार बदलने से काम में रुकावटें आईं। उन्होंने आगे कहा कि इस पुल के जरिए वाटर वे को बल देने की कोशिश की गई है। असम से जल परिवहन का नया अध्याय शुरू होगा और अब नॉर्थ ईस्ट को देश के हर कोने से जोड़ेंगे। इससे पहले असम के ढोला में प्रधानमंत्री ने देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया।

प्रधानमंत्री ने असम के विकास पर बल देते हुए कहा कि नार्थ ईस्ट में रेल परिवहन को प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने नॉर्थ ईस्ट को टूरिज्म का बहुत बड़ा केंद्र होने की संभावना जतायी। साथ ही उन्होंने इस क्षेत्र को प्राकृतिक संपदा का हिस्सा बताया।