इस बार दिल्ली के करीब 900 छठ घाटों पर सुविधा मुहैया कराएगी केजरीवाल सरकार

10
SHARE

दिल्ली में केजरीवाल सरकार के आने के बाद से छठ पूजा करने वाले श्रद्धालुओं को काफी सुविधाएं मिली हैं। केजरीवाल सरकार ने छठ घाटों के लिए हर साल ही काफी काम कराया है और उनका यह काम पहले साल से ही दिखाई देता है। केजरीवाल सरकार इस साल लगभग दोगुने छठ घाटों पर सरकारी सुविधाएं उपलब्ध कराने की तैयारी में है। इसे लेकर इसी हफ्ते से डिविजनल कमिश्नर स्तर की बैठक शुरू होनी है।
दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने पिछले साल करीब 500 छठ घाटों पर सुविधाएं मुहैया कराई थीं और इस बार इस संख्या को 900 छठ घाटों तक बढ़ाए जाने की तैयारी है, यह संख्या स्थाई और अस्थाई छठ घाटों को मिला कर है। दिल्ली सरकार की तीर्थ कमेटी के मुताबित सरकार से जुड़े तमाम जनप्रतिनधियों के पास अब तक 900 के करीब घाटों पर तैयारी कराने के आवेदन आ चुके हैं। ऐसे में तीर्थ कमेटी दिल्ली के सभी 36 विभागों के साथ बैठक करने जा रही है जिसमें छठ पूजा से जुड़ी तैयारियों पर चर्चा होगी।
दिल्ली में यूपी के पूर्वांचल और बिहार के लोगों की बड़ी संख्या है और इनकी बड़ी आबादी पश्चिमी और उत्तर पश्चिमी दिल्ली में रहती है। इसीलिए छठ पूजा के दौरान द्वारका, नरेला, किराड़ी, बुराड़ी, मटियाला विधानसभा क्षेत्रों में छठ घाटों पर सबसे ज्यादा भीड़ उमड़ती है। नरेला में दो बड़े छठ घाटों पर तो लाखों की भीड़ उमड़ती है, अकेले मेट्रो विहार छठ घाट पर ही एक लाख से ज्यादा लोग सूर्य को अर्घ्य देते हैं। मुनक नहर छठ घाट पर अर्घ्य देने वाले श्रद्धालुओं की संख्या भी लगभग इतनी ही होती है। ज्यादा भीड़ वाले इलाको में इस बार पहले की तुलना में ज्यादा छठ घाट बनाए जा रहे हं।