पुलिस सुरक्षा में गोरक्षकों के डर से मेरठ से बरेली भेजी गई बीमार गाय

13
SHARE

एक बीमार गाय जिसकी बीमारी का इलाज बरेली के इंडियन वेटनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट में संभव था, सिर्फ इस डर से वहां तक नहीं ले जायी जा रही थी कि रास्ते में गौ रक्षा के नाम पर गुंडागर्दी न हो और ले जाने वालों के साथ मारपीट न कर दी जाए। गाय को बचाने में जुटे लोग उसे बरेली पहुंचाने के लिए मेरठ के अधिकारियों से लेकर लखनऊ तक अपनी आवाज पहुंचा रहे थे।

आखिरकार एक समाचार पत्र ने पुलिस-प्रशासन की उदासीनता और गाय की बिगड़ती हालत की खबर प्रकाशित होने के बाद रविवार को खुद कप्तान मंजिल सैनी गाय को देखने पहुंची और डीसीएम की व्यवस्था कराकर पुलिसकर्मियों के साथ गाय को बरेली के लिए रवाना किया।

गांव लाला मोहम्मदपुर निवासी ज्योति की गाय करीब दो महीने से बीमार थी। ज्योति ने गाय का निजी व सरकारी पशु चिकित्सकों से चेकअप कराया। रिपोर्ट में आया कि गाय के पैरों के ज्वाइंट में खराबी है, जिसके चलते गाय खड़ी नहीं हो पा रही थी। मेरठ के चिकित्सकों ने गाय को बरेली के इंडियन वेटनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट के लिए रेफर कर दिया था।

ज्योति को डर था कि गाय को ले जाते समय रास्ते में हिंदू संगठन के लोग पकड़ सकते हैं, उनके साथ मारपीट भी हो सकती है। जब गाय की हालत बिगड़ी तो एक समाचार पत्र ने इस घटना की जानकारी मिली तो इसे प्रकाशित किया गया। ज्योति इस खबर को सीएम कार्यालय को भी ट्वीट भी कर दिया। सीएम योगी शनिवार को मेरठ में ही थे, लिहाजा सुनवाई भी त्वरित हुई।

रविवार दोपहर को एसएसपी मंजिल सैनी पुलिस बल के साथ गांव पहुंची। डाक्टर का रेफर पत्र भी देखा। तभी एसएसपी ने टीआइ से डीसीएम को बुलवाया, जिसमें गाय को बरेली के लिए भेजा गया।

एसएसपी मंजिल सैनी ने बताया कि गाय काफी दिनों से बीमार थी। परिवार के लोग बरेली में उपचार कराने के लिए ले जाने से इसलिए डर रहे थे कि रास्ते में पुलिस या गोरक्षक न रोक लें। बीमार गाय को पुलिस सुरक्षा में बरेली भेज दिया गया है।

source-DJ