मोदी जापान के लिए रवाना, परमाणु समझौता होने की उम्मीद

8
SHARE
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जापान की तीन दिवसीय यात्रा के लिए रवाना हो गए, जहां वह जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे के साथ वार्षिक शिखर बैठक करेंगे। मोदी की अपनी यात्रा के दौरान असैन्य परमाणु सहयोग और एक अंतर सरकारी समझौता और 12 लड़ाकू विमानों को लेकर समझौते पर हस्ताक्षर किए जाने की उम्मीद है। अपनी यात्रा के दौरान मोदी जापान के सम्राट से भी मुलाकात करेंगे।
मोदी आबे के साथ हाई स्पीड रेलगाड़ी शिनकानसेन से कोबे जाएंगे। इस तरह की रेलगाड़ी मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल लाइन पर भी चलायी जानी है। दोनों नेता कोबे में कावास्की भारी उद्यम फैक्टरी भी जाएंगे, जहां हाई स्पीड रेलगाड़ी का निर्माण किया जाता है। जापान रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत और जापान के बीच हाई स्पीड रेलवे सहयोग हमारे सहयोग की ताकत का उज्ज्वल उदाहरण है। यह न केवल हमारे उद्योग और निवेश के संबंधों को बढ़ावा देगा बल्कि इससे भारत में नौकरियां भी पैदा होगी, बुनियादी ढांचे में सुधार होगा और मेक इन इंडिया अभियान को बढ़ावा मिलेगा।
प्रधानमंत्री मोदी की इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच परमाणु समझौता होने की उम्मीद है क्योंकि इस मामले में औपचारिक प्रक्रियायें पहले ही पूरी हो गयी है। दोनों देशों के बीच 1.6 अरब डॉलर के 12 लड़ाकू विमानों का समझौता होने की उम्मीद है। रक्षा खरीद परिषद की सोमवार को हुई बैठक में इस मुद्दे पर विचार किया गया था। जापान की ओर से भारत को मुंबई-अहमदाबाद हाईस्पीड रेल के अलावा अन्य छह मार्गों पर रेल कोरिडोर परियोजना की पेशकश करने की संभावना है। जापान इस रेल कोरिडोर के लिए भारत को अपनी कनीक की भी पेशकश कर सकता है। इसके अलावा आबे भारत में रेल संयत्र निर्माण के लिए जापानी और भारतीय कंपनियों के बीच एक संयुक्त उद्यम की स्थापना के लिए जापान की सरकार से पेशकश कर सकते हैं।