पेट्रोल पम्प व्यवसाई मर्डर केस: पूर्व मंत्री के भाई समेत 5 अरेस्ट

69
SHARE

सुल्तानपुर. यूपी के सुल्तानपुर में दो माह पूर्व हुए बहुचर्चित पेट्रोलपम्प व्यवसायी भारत भूषण मिश्रा हत्याकांड में पुलिस ने सपा सरकार के पूर्व मंत्री मनोज पाण्डेय के चचेरे भाई समेत मृतक के 3 भतीजों समेत 5 लोगों को गिरफ्तार किया है। इस मामले में पुलिस ने घटना में प्रयुक्त की गयी इटियॉस कार भी बरामद किया है। *ये था पूरा मामला*

दो माह पूर्व 8 फरवरी को कोतवाली नगर थाना क्षेत्र के पयागीपुर निवासी
भरतभूषण मिश्रा जब सुबह 7 बजे घर से अपने पेट्रोल पम्प भूषण फिलिंग स्टेशन जा रहे थे उस समय बाइक सवार बदमाशों ने उन्हें गोली मार दिया था।
घटना में उन्हें गम्भीर चोटें आई थी जहाँ लखनऊ ट्रामा सेंटर में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गयी थी।

*परिजनों के साथ धरने पर बैठे थे आरोपी*
इस घटना के बाद से इलाके में दहशत का माहौल व्याप्त हो गया था।
वही घटना के खुलासे के लिए परिजनों ने भारी संख्या में स्थानीय लोगों के साथ मिलकर एस.पी. ऑफिस पहुचकर पुलिस के खिलाफ नारे बाजी की थी।
इसके बाद पुलिस ने शक़ के घेरे में कुछ दिन पूर्व जब पट्टीदारों को उठाया था तब पुलिस पर अनावश्यक प्रताड़ित करने का आरोप लगा था ।
इसी क्रम में चौकाने वाला पहलू यह की केस के खुलासे के लिए जब परिजन धरने पर बैठे थे तो उसमे वो चेहरे भी शामिल थे जो आज हत्या के आरोपी बने हैं।

*करोड़ों की जमीन हथियाने के लिए भाड़े के शूटरों से करवाई गई हत्या*

हत्या की वजह हाइवे के पास स्थित करोङो रूपए कीमत की जमीन और पैसों का लेनदेन होना माना जा रहा है।
इस जमीन को लेकर भारत भूषण और उनके भतीजों के बीच कोर्ट में मुकदमा चल रहा था जिसकी पैरवी भरत भूषण कर रहे थे।
भारत भूषण के पैरवी की वजह से मामला लंबा खिंचता देख भारत भूषण के भतीजों दीपक मिश्रा, प्रदीप मिश्रा और संदीप मिश्र ने भाड़े के शूटरों को एक लाख रूपए की सुपारी देकर उनकी हत्या कराना ही बेहतर समझा।
लेकिन पुलिस ने कड़ी से कड़ी जोड़कर आखिरकार दो महीने बाद भरत भूषण हत्याकांड का खुलासा करते हुए इस हत्याकांड में शामिल उनके तीन भतीजों समेत पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

*लोगों ने लगाए पुलिस जिन्दाबाद के नारे*
वैसे इस हत्याकांड का खुलासा करने में पुलिस ने दो माह का समय लगा दिया हो लेकिन इस खुलासे से  पुलिस के साथ-साथ इलाके की जनता भी संतुष्ट दिखाई दे रही है। यही वजह है कि आज जहाँ अंदर  पुलिस इस हत्याकांड का खुलासा कर रही थी तो वही बाहर भारी तादाद में इलाके के लोग जमा थे।
और लगातार पुलिस ज़िंदाबाद और पुलिस अधीक्षक ज़िंदाबाद के नारे लगाते रहे।

*पूर्व मंत्री का भाई भी था हत्याकांड में शामिल*

मामले की गंभीरता का अंदाजा इससे  लगाया जा सकता है की इस मामले में गिरफ्तार आरोपियों में पूर्व मंत्री मनोज पांडेय का चचेरा भाई अनिल पाण्डेय भी शामिल था।
लेकिन पुलिस अब सबको गिरफ्तार कर जेल भेज रही है।