पुलिस ऑफिसर तड़पता रहा, लोगो ने मदद करने की जगह फोटो खींची और चलते बने

6
SHARE

इंसानियत किस तरह खत्म हो रही है इसका ताजा सबूत आज मैसूरू में देखने को मिला जब एक पुलिस ऑफिसर दुर्घटना में बुरी तरह घायल हो गया और लोगो ने मदद करने की जगह फोटो खींची और चलते बने|

मैसूरू में एक पुलिस ऑफिसर दुर्घटना में बुरी तरह घायल हो गया| वह एक्‍सीडेंट उस वक्‍त हुआ जब उसकी जीप सामने से आ रही बस से टकरा गई| लेकिन दुख की बात यह है कि वहां पर एकत्र हुई भीड़ ने उस अधिकारी की मदद नहीं की| लोग बस माजरा देखने के लिए रुके| फोटो खींची और चलते बने| किसी ने उस अधिकारी की मदद नहीं की| उस पुलिस अधिकारी की बाद में अस्‍पताल में मौत हो गई|

एक्‍सीडेंट इतना भीषण था कि उस जीप के ड्राइवर की मौके पर ही मौत हो गई| पुलिस इंस्‍पेक्‍टर महेश कुमार(38) गंभीर रूप से घायल हो गए और उनके शरीर से खून निकल रहा था| उस दौरान ही उनको सबसे ज्‍यादा मदद की जरूरत थी| लेकिन किसी ने उनकी कोई मदद नहीं की| बगल से गुजरने वाले लोग रुके लेकिन किसी ने संवेदना नहीं दिखाई| उनमें से कईयों ने फोटो खींचे लेकिन किसी ने मदद का हाथ नहीं बढ़ाया| बाद में किसी ने पुलिस को सूचना दी| स्‍थानीय पुलिस थोड़ी देर बाद आई| उनको अस्‍पताल पहुंचाया गया लेकिन वहां पर उन्‍होंने दम तोड़ दिया|

तस्‍वीर का दुखद पहलू यह है कि पहली बार ऐसा नहीं हुआ है| इससे पहले भी इस तरह की घटनाएं घट चुकी हैं, जब लोग घायल की मदद करने के बजाय फोटो खींचकर चलते बने| इसी तरह के एक मामले में पिछले साल बाइक से जा रहे एक 24 साल युवक को एक ट्रक ने इतने जोर से टक्‍कर मारी कि वह बुरी तरह से घायल हो गया|उसके बाद तड़पता हुआ वह युवक करीब 20 मिनट तक लोगों से मदद के लिए गुहार लगाता रहा|लेकिन लोग इसी तरह वहां रुके, फोटो ली और चलते बने|