शशिकला उत्तराधिकारी नहीं, लोग उनके खिलाफ:जयललिता की भतीजी

10
SHARE
तमिलनाडु में एआईएडीएमके के मिनिस्टर्स शशिकला पर पार्टी संभालने का दबाव बना रहे हैं। उधर, जयललिता की भतीजी दीपा जयकुमार इसके खिलाफ हैं। उनका कहना है, ‘ यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। इससे असंतोष भड़क सकता है, निश्चित तौर पर लोग इसके पक्ष में नहीं है। यह गलत है कि मेरी बुआ (जयललिता) ने शशिकला या उनके किसी रिश्तेदार को उत्तराधिकारी घोषित किया था।’ इसके साथ ही दीपा ने पॉलिटिक्स में आने का संकेत भी दिया|
दीपा जयललिता के बड़े भाई जयकुमार की बेटी हैं। जयकुमार का भी निधन हो चुका है।राजनीति में आने के सवाल पर दीपा ने कहा, ‘अगर मौका है तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है, इसके लिए रास्ते तलाश रही हूं। राजनीति में आना पसंद करूंगी।डेमोक्रेसी में बेहतर यही है कि इसे लोगों पर छोड़ दिया जाए, पार्टी इस पर ध्यान दे और फ्यूचर के बारे में सोचे|’
दीपा कुमार ने शशिकला को जयललिता की उत्तराधिकारी बनाए जाने के दावे को खारिज किया। कहा- ‘यह गलत है कि मेरी बुआ (जयललिता) ने शशिकला या उनके किसी रिश्तेदार को उत्तराधिकारी घोषित किया था।इसके बजाए बुआ ने उन्हें (शशिकला) राजनीति से बाहर रखा था। जबकि मैं घर की हूं, शशिकला को लेकर गलतफहमी बहुत है।शशिकला ने मेरी बुआ के पीठ पीछे और उनकी जानकारी के बिना बहुत कुछ किया। पता चलने पर बुआ नाराज भी होती थीं|’
राज्य के नए सीएम पन्नीरसेल्वम ने एआईएडीएमके के जनरल सेक्रेटरी पोस्ट के लिए शशिकला का सपोर्ट किया है।
सीएम ने कहा है, ‘जयललिता के निधन के बाद केवल शशिकला ही इस शून्यता को भर सकती हैं।2011 में शशिकला को जयललिता ने पार्टी से निकाल दिया था।आरोप था कि शशिकला और उनके परिवार के लोग जयललिता के खिलाफ साजिश कर रहे थे।बाद में उन्हें फिर से AIADMK में शामिल कर लिया गया था, लेकिन फैमिली मेंबर्स को शामिल नहीं किया गया। जया के निधन के बाद अब शशिकला AIADMK की तीसरी चीफ बन सकती हैं। पार्टी की तरफ से शनिवार को ट्वीट कर कहा गया, सीनियर्स चाहते हैं कि शशिकला पार्टी लीडर बनें। जो रास्ता जयललिता ने दिखाया, उस राह पर शशिकला ही पार्टी को लीड करें|
पार्टी लीडर पोन्नइयन ने कहा, “शशिकला जयललिता के साथ आखिरी सांस तक रहीं और उनको लेकर किए जा रहे सवाल फिजूल हैं। पार्टी का जनरल सेक्रेटरी जल्द ही चुना जाएगा। जो पार्टी और कैडर की रक्षा करेगा।पार्टी हाईकमान ने जनरल सेक्रेटरी चुनने का निर्णय लिया है और चुनाव जल्द होंगे।”जब उनसे पूछा गया कि पार्टी के कुछ कैडर्स के मन में शशिकला के खिलाफ गुस्सा है तो उन्होंने कहा कि ये सुनियोजित अफवाह है।जयललिता के अंतिम संस्कार के बाद से सीएम पन्नीरसेल्वम, सीनियर मिनिस्टर्स और पार्टी नेता लगातार शशिकला से मिल रहे हैं।शशिकला जयललिता के साथ पोएस गार्डन में ही रहती थीं और उन्होंने ही अंतिम संस्कार से जुड़ी सारी रस्में पूरी की थीं|