पाकिस्तान में मसूद अजहर समेत 5100 आतंकियों के बैंक खाते फ्रीज : PAK मीडिया

13
SHARE
भारत के मोस्ट वॉन्टेड आतंकी और जैश-ए-मोहम्मद चीफ मौलाना मसूद अजहर का बैंक अकाउंट पाकिस्तान में फ्रीज किया गया है। मसूद के साथ दूसरे 5,100 अकाउंट भी फ्रीज किए गए हैं। पाकिस्तानी मीडिया का दावा है कि सभी लोगों को सस्पेक्ट टेररिस्ट मानकर ये कार्रवाई की गई है। इन खातों में 40 करोड़ रुपए से ज्यादा बैलेंस था।हिरासत में है मसूद, पठानकोट हमलों का मास्टरमाइंड…
– पाकिस्तान की नेशनल काउंटर टेररिज्म अथॉरिटी ने इस महीने की शुरुआत में ही करीब 5500 नाम स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान (एसबीपी) को भेजे थे।
– बता दें कि पाकिस्तान ने मसूद को जनवरी में पठानकोट एयरबेस पर आतंकी हमले के बाद से ‘एहतियातन हिरासत’ में रखा है।
– ‘द न्यूज’ को एक सीनियर अफसर ने बताया, “पाक होम मिनिस्ट्री की रिक्वेस्ट के बाद हमने मसूद अजहर समेत सभी टॉप सस्पेक्ट टेररिस्ट्स के बैंक अकाउंट से लेन-देन पर रोक लगा दी है।”
– अफसर के मुताबिक़, होम मिनिस्ट्री ने हजारों सस्पेक्ट्स की तीन अलग-अलग लिस्ट भेजी है, जिसमें कई प्रतिबंधित संगठनों के चीफ भी शामिल हैं।
– लिस्ट में जिनके नाम भेजे गए हैं, उन सभी को पाकिस्तान के आतंकवाद निरोधक अधिनियम, 1997 के तहत ‘ए’ कैटेगरी में रखा गया है।
– द न्यूज ने अफसरों के हवाले से लिखा है – “अजहर के नाम को चतुर्थ अनुसूची की ‘ए’ कैटेगरी में रखा गया है।”
– ऐसा इसलिए क्योंकि पाकिस्तान ने भारत में पठानकोट पर आतंकी हमला होने के बाद मसूद को ‘एहतियातन हिरासत’ में डाला हुआ है।
कौन है मसूद अजहर ?
– मसूद अजहर जैश-ए-मोहम्मद का चीफ है। भारत में पठानकोट एयरबेस पर हमले का मास्टरमाइंड है।
– उड़ी आर्मी कैम्प पर हमले का मास्टरमाइंड भी उसे ही माना जा रहा है।
– 1999 में भारत को कंधार हाईजैक के दौरान 178 यात्रियों के बदले मसूद को दूसरे आतंकियों के साथ छोड़ना पड़ा था।
– बता दें कि 1994 में आतंकी गतिविधियों की वजह से उसे जम्मू से अरेस्ट किया गया था।
– छूटने के बाद मसूद अजहर ने 2000 में जैश-ए-मोहम्मद का गठन किया था। वह पाकिस्तान में रहकर कश्मीर में आतंकी गतिविधियां चलाता है।