गोरखपुर में शिक्षामित्रों का बवाल, दस हिरासत में

166
SHARE

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के दूसरे दिन शिक्षामित्रों का आंदोलन अराकता की ओर बढ गया। उन्‍होंने पंत पार्क का गेट उखाड़ दिया। वहां से गोरखनाथ मंदिर की तरफ बढ़ रहे शिक्षामित्रों को पानी का बौछार कर रोक दिया। उसके बाद सभी काली मंदिर तिराहे पर पहुंचे वहां पर उन्‍होंने एक दरोगा से बदसलूकी की और परिवहन निगम की बस के शीशे तोड़ दिए। राहगीारों तक को पीट दिया। काफी देर बाद शिक्षामित्र शांत हुए।

समायोजन बाबत सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद से अपने भविष्य को लेकर उहापोह में फंसे शिक्षामित्रों का विरोध प्रदर्शन दूसरे दिन हिंसक हो उठा है। कहीं बस में तोड़-फोड़ तो कहीं प्रशासन की गाड़ी को क्षतिग्रस्त किया गया। शिक्षामित्रों की पुलिस से तीखी झड़प भी हुई। इस दौरान महिला शिक्षामित्रों सहित दस को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। जिसमें दो महिला व एक पुरुष शिक्षा मित्र बीमार हो गए, जिन्‍हें जिला अस्पताल भेजा गया है।

शिक्षामित्र गुरुवार को सुबह 10 बजे ही दीनदयाल उपाध्‍याय गोरखपुर विश्‍वविद्यालय पंत पार्क पहुंचे। वहां पर गोरखपुर के अलावा कुशीनगर और देवरिया के भी शिक्षामित्रों को बुलाया गया। वहां पर बैठक करने के बाद शिक्षामित्र पंत पार्क का गेट उखाड़ दिया। उसके बाद गोरखनाथ मंदिर की तरफ रवाना हो गए। धर्मशाला पुल के नीचे पहुचते ही पुलिस ने उनहें आगे जाने से रोक दिया। उसके बाद वह उत्‍तेजित हो गए और नारेबाजी करते हुए धक्‍का-मुक्‍की शुरू कर दिया।

पुलिस से तीखी झड़प करने के बाद जैसे ही शिक्षामित्र आगे बढ़े पुलिस ने बल प्रयोग कर रोकना चाहा। इस दौरान पुलिस से उनकी तीखी झड़प हो गई। वहां पर पहले से मौजूद आइजी मोहित कुमार की अगुवाई में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने शिक्षा मित्रों पर पानी की बौछार कराई। इससे उत्‍तेजित शिक्षामित्र कालीमंदिर तिराहे पर पहुंच गए। वहां पर उन्‍होंने जाम लगाते समय कुछ राहगीरों को पीट दिया। एक दारोगा से बदसलूकी कर दी और परिहवन निगम के बस के शीशे तोड़ दिए। उसके बाद पुलिस ने गिरफ्तारी शुरू कर दी। उसके बाद शिक्षामित्र वहां से भागे।

गुरुवार को दूसरे दिन भी शिक्षामित्र योगी आदित्यनाथ जिंदाबाद के नारों के साथ गोरखनाथ मंदिर की तरफ कूंच कर चुके हैं। शिक्षामित्रों का कहना है कि हम अपनी बात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कहने जा रहे हैं। सांसद रहने पर भी शिक्षामित्र उनसे मिलने जाते रहे हैं और अपनी समस्याओं से अवगत कराते रहे हैं। अब जब वह प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं तो हमारी समस्या का जरूर निदान करेंगे।

दूसरी तरफ अपनी बात कहने के लिए जा रहे आंदोलनरत शिक्षामित्रों को पुलिस ने धर्मशाला पुल के पास रोक दिया है। बड़ी संख्या में उपस्थित शिक्षामित्र योगी आदित्यनाथ जिंदाबाद का नारा लगा रहे हैं।

source-DJ