योगी के मंत्री बोले यूपी में जाति देख कर दिया जा रहा मुआवजा

31
SHARE

उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर अपने बयानों से हमेशा ही अपनी सहयोगी और सरकार दोनों को ही असहज किए रहते हैं। अब तो उन्होंने सिर्फ बीजेपी और योगी सरकार को ही असहज नहीं किया है बल्कि केंद्र की मोदी सरकार और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भी ललकार दिया है।
गोंडा के टिकरी जंगल स्थित रुदापुर सम्मय माता स्थान पर रविवार को सुहेल देव भारतीय समाज पार्टी की जनसभा में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि वह गरीब, पिछड़ों, मजबूर लोगों के हक और न्याय दिलाने की लड़ाई लड़ रहे हैं और तब तक लड़ते रहेंगे जब तक इन लोगों को उनका हक न दिला दें।
राजभार ने कहा कि वह 9 अक्टूबर को होने वाली कैबिनेट की बैठक में पिछड़ा, अति पिछड़ा और सर्बाधिक पिछड़ा के लिए आरक्षण दिलाने की बात करेंगे। इस दौरान उन्होंने कहा कि अब इस सरकार में भी जाति के आधार पर मुआवजा दिया जा रहा है, अगर पंडित जाति का मरता है तो 30 लाख, ठाकुर है तो 25 लाख, यादव है तो 15 लाख तक मुआवजा दिया जाता है लेकिन दलित, चौहान, गड़रिया राजभर, वैश्य या अन्य जाति के हैं तो सरकार के खजाने में पैसा ही नहीं रहता है।
सुहेलदेव भासपा अध्यक्ष राजभर ने कहा कि पिछले दिनों एक ईंट भट्ठे पर इमलीहवा गांव के नान्हू राजभर की पीट-पीट कर हत्या के मामले में कोतवाल ने रिश्वत लेकर मुख्य आरोपी कमलेश सिंह को गिरफ्तार नहीं किया है। वह इसकी शिकायत मुख्यमंत्री और डीजीपी से करेंगे और मृतक के परिवार वालों को मुआवजा दिलाएंगे। इसके लिए 18 अक्टूबर को हजारों कार्यकर्ताओं के साथ मनकापुर कोतवाली का घेराव कर धरने पर भी बैठेंगे।
ओमप्रकाश राजभर ने केंद्र की मोदी और राज्य में योगी सरकार पर जमकर हमला किया और कहा कि अब सिर्फ जुमलेबाजी से काम नहीं चलेगा। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी अध्यक्ष ने अपने वादे पूरे नहीं किए तो पूर्वांचल में भाजपा को खाता नहीं खोलने देंगे। बताते चलें कि राजभर कहते रहे हैं कि बीजेपी अध्यक्ष ने उनसे वादा किया था कि पिछड़ों को मिल रहे आरक्षण में अतिपिछड़ों के आरक्षण का कोटा तय किया जाएगा।