आज नहीं होगी सुभासपा की बैठक, 6 अप्रैल के बाद ही आखिरी फैसला

126
SHARE

उत्तर प्रदेश में लोकसभा सीटों के मसले पर भाजपा से नाराज चल रही सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी का आखिरी फैसला अब छह दिनों के लिए और टल गया है। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने एनडीए में बने रहने या नहीं रहने को लेकर फैसला लेने के लिए आज एक अप्रैल को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई थी, लेकिन आज यह बैठक नहीं हो रही है, इसीलिए आज फैसला भी नहीं आएगा।

सुभासपा के राष्ट्रीय महासचिव अरुण राजभर ने बताया कि लखनऊ में सोमवार को सुभासपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक होनी थी, लेकिन जिला प्रशासन लखनऊ से बैठक के लिए अनुमति नहीं मिलने के कारण यह बैठक स्थगित कर दी गयी है। अब यह बैठक 6 अप्रैल को लखनऊ में होगी। इसी दौरान पार्टी के पदाधिकारी विचार-विमर्श करके फैसला लेंगे।

इससे पहले शुक्रवार को प्रदेश कार्यालय में सुभासपा कोर कमेटी की बैठक हुई थी, जहां नेताओं ने अंतिम फैसला राष्ट्रीय नेतृत्व पर छोड़ दिया। बताते चलें कि मंत्री ओम प्रकाश राजभर भाजपा से पूर्वांचल की 5 सीटें चुनाव लड़ने के लिए मांग रहे हैं, इन सीटों में सुरक्षित सीट लालगंज और मछली शहर में से कोई एक और सामान्य सीट घोसी, अंबेडकरनगर, जौनपुर और चंदौली हैं। हालांकि भाजपा ने अब तक सुभासपा को कोई जवाब नहीं दिया है।

इधर भाजपा ने निषाद पार्टी के साथ नजदीकियां बढ़ा दी हैं और खबरें हैं कि गोरखपुर की सीट समेत दो सीटें निषाद पार्टी को दी जा सकती हैं। चर्चाएं हैं कि भाजपा निषाद पार्टी को सुभासपा के विकल्प के तौर पर खड़ा करने की कोशिश में है, ताकि अगर राजभर एनडीए का साथ छोड़ते भी हैं तो चुनावी नुकसान कम से कम हो। इधर सुभासपा ने भाजपा को बताने की कोशिश की है कि उसकी उपेक्षा न की जाए क्योंकि निषाद पार्टी का जनाधार सुभासपा के मुकाबले कहीं भी नहीं टिकता।

बहरहाल अब इंतजार करना होगा 6 अप्रैल का जब सुभासपा की बैठक होगी और इसमें आखिरी फैसला लिया जाएगा। वैसे राजनीतिक जानकारों का मानना है कि एनडीए का साथ छोड़ना सुभासपा के लिए घातक होगा क्योंकि उसके अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर प्रदेश में कैबिनेट मंत्री हैं और कई प्रमुख नेता निगमों और अन्य पदों पर हैं। सुभासपा अलग होती है तो उसे सभी पद छोड़ने होंगे ऐसे में उसके प्रभाव में कमी आएगी और पार्टी टूट-फूट का भी शिकार हो सकती है।