बीएचयू में 24 घंटे में आपरेशन के बाद नौ की मौत

113
SHARE

बीएचयू के सर सुंदरलाल अस्पताल की चिकित्सकीय व्यवस्था पर बुधवार को सवालिया निशान लग गया। बीते 24 घंटे में ऑपरेशन के बाद नौ मरीजों की मौत से हड़कंप मच गया है। सूत्रों का कहना है कि बुधवार को भी ओटी से निकले 15 मरीजों की हालत गंभीर होने के चलते उन्हें आइसीयू में रखा गया है।

आइसीयू में जगह न होने पर कुछ मरीजों को पोर्टेबल वेंटिलेटर के सहारे रखा गया है। इन बातों की वजह स्पष्ट न करते हुए तकनीकी वजह बताकर अस्पताल प्रशासन ने सभी ऑपरेशन थिएटर दो दिन के लिए बंद कर दिए हैं। सूत्र बताते हैं कि ऑपरेशन के बाद जिन नौ मरीजों की मौत हुई उनमें पांच पीडियाट्रिक सर्जरी, दो यूरोलॉजी व दो जनरल सर्जरी के थे।

दिन में विभिन्न ओटी में जिन मरीजों के आपरेशन हुए उनमें से 15 की हालत गंभीर होने के चलते उन्हें वार्ड में शिफ्ट करने के बजाय आइसीयू में रखा गया है1 आइसीयू के फुल हो जाने पर अतिरिक्त बेड का इंतजाम करते हुए कुछ मरीजों को पोर्टेबल वेंटिलेटर पर रखा गया है। कुलपति प्रो. जीसी त्रिपाठी ने कहा कि प्रथमदृष्टया यह मामला ऑपरेशन में प्रयोग की जाने वाली बेहोशी की गैस से जुड़ा लग रहा है। शेष सही बात तो गुरुवार को होने वाली जांच के बाद ही सामने आएगी।

वहीं अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक ओपी उपाध्याय का कहना है कि कुछ तकनीकी वजहों के चलते अस्पताल के सभी ऑपरेशन थियेटर दो दिन के लिए बंद कर दिए गए हैं। जिन ऑपरेशनों में एनीस्थिसिया देकर बेहोशी की जरूरत होती है, वे ऑपरेशन नहीं होंगे। बिना बेहोशी वाले छोटे ऑपरेशन ही संभव हो सकेंगे।

source-DJ