योगी सरकार शिवपाल यादव पर मेहरबान, मिला मायावती का खाली किया बंगला

247
SHARE

समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने वाले शिवपाल सिंह यादव पर बीजेपी से नजदीकियां रखने का आरोप लगातार लगता रहा है और इस बीच एक नया राजनीतिक घटनाक्रम हुआ है जिसके बाद यह आरोप और भी तेजी से लगाया जा रहा है और राजनीतिक गलियारों में इस घटना को भविष्य में होने वाले बड़े उठापटक के रूप में देखा जा रहा है।

दरअसल राज्य संपत्ति विभाग ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव को नया बंगला आवंटित किया है, और यह बंगला वह है जिसमें कभी बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की चीफ मायावती का दफ्तर हुआ करता था। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मायावती ने इसे खाली कर दिया था और इसी बंगले से सटे अपने बंगले में शिफ्ट हो गई थीं।

राज्य संपत्ति विभाग ने शिवपाल सिंह यादव को बतौर विधायक 6 एलबीएस बंगला आवंटित किया है। बंगला मिलने के बाद शिवपाल तुरंत ही इसमें गए और वहां का निरीक्षण किया। माना जा रहा है कि इस बंगले में शिवपाल अपनी पार्टी का दफ्तर बनाएंगे। राज्य संपत्ति विभाग के इस फैसले को कुछ लोग सियासी समीकरण से भी जोड़कर देख रहे हैं क्योंकि आगामी लोकसभा चुनाव में मायावती और अखिलेश यादव बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन बनाने की कोशिश में हैं, वहीं शिवपाल हर हाल में समाजवादी पार्टी के विरोध में ही रहेंगे।

शिवपाल सिंह यादव की पार्टी में लगभग वही चेहरे हैं जो एक वक्त समाजवादी पार्टी में हुआ करते थे, ऐसे में यह जब अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी से अलग होकर चुनाव लड़ेंगे तो वो अखिलेश के वोटबैंक में ही सेंध लगाएंगे और इसका फायदा बीजेपी को मिलेगा। वैसे कुछ और घटनाक्रम भी हुए जो शिवपाल को बीजेपी के करीब दिखाते हं जैसे कि कुछ दिनों पहले डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने शिवपाल को सलाह दी थी कि वह अपनी पार्टी का विलय बीजेपी में कर दें, वहीं समाजवादी पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव ने इशारों में शिवपाल पर बीजेपी का करीबी होने का आरोप लगाया था।