मुसलमानों अब सही से रहना सीख लो, सरकार हमारी आ गई है, बरेली में शरारती तत्व ने माहौल खराब करने की कोशि‍श की

17
SHARE
यूपी के बरेली में शरारती तत्व माहौल खराब करने की लगातार कोशि‍श कर रहे हैं। इसी के तहत गुरुवार देर रात बरेली की दो मस्जिदों में पर्चे फेंके गए। जिसमें लिखा है- मुसलमानों अब सही से रहना सीख लो सरकार हमारी आ गई है। साथ ही इसमें नमाज बंद कराने की धमकी भी दी गई है। बता दें, इससे पहले भी बरेली के एक गांव में कथित तौर पर धमकी भरे पर्चे लगाए गए थे।
यह घटना सुभाषनगर थाना क्षेत्र के करगैना की है। यहां की नई मस्जिद और पुरानी मस्जिद में गुरुवार देर रात शरारती तत्वों ने पर्चे फेंककर माहौल बिगाड़ने का प्रयास किया।
– इन पर्चों पर लिखा है- ”मुसलमानों अब सही से रहना सीख लो सरकार हमारी आ गई है। अब मस्जिदों में लाऊड स्पीकर में नमाज लगाना बंद कर दो, नहीं तो हम दोनों मस्जिदों में नमाज नहीं होने देंगे और इसे सिर्फ धमकी मत समझना।”
– इस पर्चे पर अंत में लिखा है, आज्ञा से सभी हिन्दू।
– इसकी शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। साथ ही शरारती तत्वों की तलाश भी शुरू कर दी है।

खुराफातियों का पता नहीं लग सका
– मस्जिद की देखरेख करने वालों ने बताया कि देर रात बाइक सवार कुछ युवक नशे की हालत में गाली-गलौज और हंगामा करते हुए वहां से गुजरे थे।
– वे लोग उत्तेजक नारे भी लगा रहे थे। इस खुराफात में वे लोग शामिल हो सकते हैं।
– पुलिस ने पर्चे कब्जे में लेकर आसपास के लोगों से पूछताछ की मगर खुराफातियों का पता नहीं लग सका है।

क्या कहना है पुलिस का?
– सीओ स्नेहलता ने बताया कि यह शरारती तत्वों की कारस्तानी लगती है। लिखावट का मिलान न हो सके, इसलिए कंप्यूटर की मदद से पर्चे तैयार किये गए।
– दोनों मस्जिदों पर पुलिस बल तैनात किया गया है। थाना सुभाषनगर में अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।
पहले भी बरेली के गांव में चस्पा हुए थे धमकी भरे पोस्टर
– बात दें, इससे पहले होली से ठीक पहले 12 मार्च को कुछ शरारती तत्वों ने बरेली जिले के शीशगढ़ थानाक्षेत्र के जिया नगला गांव में करीब 20 धमकी भरे पर्चे लगाए थे।
– इन पर्चों में समुदाय विशेष के लोगों को 31 दिसंबर से पहले गांव छोड़कर जाने की धमकी दी गई थी। गांव ना छोड़ने पर गंभीर नतीजे भुगतने की बात भी कही गई थी।
– इतना ही नहीं पर्चों पर संरक्षक के तौर पर योगी आदित्यनाथ का नाम लिखा था।