कुलभूषण जाधव मामले में भारत हुआ शख्त, नहीं होगी कोई वार्ता

10
SHARE

अंतरराष्ट्रीय मानदंडों को नजरअंदाज करते हुए भारतीय नौसेना से रिटायर अधिकारी और बिजनेसमैन कुलभूषण जाधव को फांसी देने के लिए पाकिस्तान अड़ा हुआ है। वह जाधव को वकील मुहैया नहीं करा रहा है और इतना ही नहीं, पाकिस्तान ने कुलभूषण से भारतीय राजदूत से मुलाकात की अपील को 14वीं बार खारिज कर दिया है।

अब तो जाधव पर पाकिस्तान में कई आतंकी गतिविधि में शामिल होने के आरोप भी लगा दिए हैं। ऐसे में भारत ने पाक के साथ हर स्तर की वार्ता रोक दी है। गौरतलब है कि पाकिस्तान ने जासूसी का आरोप लगाकर बिजनेसमैन कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाई है।

शुक्रवार को भारत सरकार ने समुद्री सुरक्षा को लेकर पाकिस्तान के साथ 17 अप्रैल को होने वाली वार्ता को भी रद्द कर दी है। इसके साथ ही भारत ने पाकिस्तान को सीधे तौर पर अवगत करा दिया कि वह पाकिस्तान मैरीटाइम सिक्युरिटी एजेंसी के प्रतिनिधिमंडल की मेजबानी करने को कतई तैयार नहीं। यह प्रतिनिधिमंडल रविवार को भारत आने वाला है।

विदेश मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक इस्लामाबाद में भारत के उच्चायुक्त गौतम बंबवाले ने पाकिस्तान की विदेश सचिव तहमीना जांजुआ से मुलाकात की और जाधव के मामले में दो मांगे रखी। पहली, जाधव पर दायर की गई चार्जशीट की कॉपी दी जाए और दूसरी पाक की सैन्य अदालत की तरफ से जाधव को दी गई फांसी की सजा के आदेश की कॉपी उपलब्ध कराई जाए।

इसके साथ ही भारत ने यह भी कहा है कि जाधव को भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों से मिलने दिया जाए, ताकि आगे अपील करने की रणनीति बनाई जाए। गौरतलब है कि अभी तक 13 बार यह अपील कर चुका है, लेकिन पाकिस्तान की तरफ से कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला है।

शुक्रवार को पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त ने पाकिस्तानी विदेश सचिव से मुलाकात की। उन्होंने पाक से अपील की कि वह कुलभूषण से भारतीय राजनयिक को मुलाकात करने की इजाजत दे, लेकिन पाक ने इस अपील को खारिज कर दिया।