मुस्लिम धर्म गुरुओं ने जारी किया फतवा, किशोरी ने कहा ‘संगीत कभी नहीं छोड़ूंगी’

16
SHARE

नाहिद आफरीन को दो साल पहले एक टैलेंट शो से गायकी में शोहरत हासिल हुई थी लेकिन धर्म गुरु इस किशोरी को सार्वजनिक मंच पर गाने से रोक रहे हैं. असम में एक मुसलमान किशोरी गायिका को सरकार ने तब सुरक्षा की गारंटी देनी पड़ी जब करीब 50 मुस्लिम धार्मिक नेताओं ने लड़की के खिलाफ फतवा जारी कर दिया.

राज्य में बीजेपी सरकार की अगुवाई करने वाले मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कहा है कि ‘प्रतिभाशाली गायिका नाहिद आफरीन को सार्वजनिक मंच पर गाने से रोकने वाली संस्थाओं के इस कदम की हम निंदा करते हैं.’ ट्विटर पर ही सोनोवाल ने यह भी लिखा है कि ‘नाहिद से बात की है और हमने कलाकारों को सुरक्षा मुहैया करने के अपने वादे को दोहराया है.’

नाहिद ने कहा है कि ‘पहली बार फतवे के बारे में सुनकर धक्का लगा लेकिन फिर मुझे कई मुसलमान गायकों से प्रेरणा मिली जिसके बाद मैंने तय किया कि मैं संगीत को कभी नहीं छोड़ूंगी.’ पुलिस इस बात की जांच में लगी है कि क्या नाहिद के खिलाफ फतवा इसलिए जारी किया गया है क्योंकि उन्होंने आंतकवाद और ISIS के खिलाफ गीत गाए हैं.