अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाना मेरी बड़ी भूल, कांग्रेस से गठबंधन करके पार्टी की हार तय थी

6
SHARE

आज मैनपुरी में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी की करारी हार पर मुलायम सिंह यादव ने कहा मैंने अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाया। अगर मैं मुख्यमंत्री होता तो समाजवादी पार्टी को प्रदेश में बहुमत मिल जाता। इस कारण अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाना मेरी एक बड़ी भूल थी। उन्होंने अखिलेश यादव को सीएम बनाने के लिए अपनी गलती मानी। मुलायम सिंह यादव ने मानी अपनी गलती और कहा कि सीएम हमको बनना चाहिए था। समाजवादी पार्टी अपनी गलती से चुनाव हारी है।

मुलायम सिंह यादव ने कहा कांग्रेस के साथ गठबंधन करके पार्टी की हार तय कर ली थी। मुलायम ने कहा कि अखिलेश ने उस कांग्रेस के साथ हाथ मिला लिया, जिसमें हमको जेल में डालने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। इस कांग्रेस ने हमारी जिंदगी बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी, हमारे ऊपर बहुत केस लगाए। इसके बाद भी अखिलेश ने कांग्रेस से ही गठबंधन कर लिया। कांग्रेस सरकार में हम समाजवादियो पर कई केस लगाए गए।

मुलायम सिंह यादव ने राम गोपाल यादव पर कहा कि वह पार्टी के हित में कोई काम नहीं कर रहे हैं। वह सिर्फ अपना स्वार्थ देख रहे हैं। मुलायम ने राम गोपाल यादव पर हमला बोलते हुए कहा कि राम गोपाल ने शिवपाल सिंह यादव को इटावा के जसवंतनगर से हराने के लिए पैसा तक खर्च किया था। इसके जब मुझे पता चला तो मुझे जसवंतनगर में सभा तक करनी पड़ी। मुलायम सिंह यादव ने शिवपाल यादव के प्रोफेसर रामगोपाल यादव को शकुनि बताये जाने बाले बयान पर कहा कि शिवपाल ने तो बिल्कुल ठीक कहा है।

शिवपाल ने रामगोपाल यादव को शकुनि बताया, यह बात गलत नहीं है। वह तो शकुनि से भी खराब काम कर रहे हैं। इस बार चुनाव में शिवपाल सिंह यादव के खिलाफ साजिश हुई। राम गोपाल ने उनको हराने में कोई कसर नहीं छोड़ी, जमकर पैसा भी खर्च किया।मुलायम सिंह यादव ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा झूठ बोला है। उन्होंने कन्नौज में आकर कह दिया कि जो लड़का बाप न हुआ तो आपका क्या होगा। मोदी ने एक वादा पूरा नहीं किया,  झूठ बोलकर जनता को ठगा। कन्नौज में जो मोदी ने बोला उसका बड़ा असर हो गया। अखिलेश के हमसे कटे-कटे रहने को इसी से जोड़ा गया।

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने कहा कि वह समाजवादी सेक्युलर मोर्चा न बनाने के लिए शिवपाल को समझाएंगे। उन्होंने कहा कि नई पार्टी बनाने पर शिवपाल से कोई बात नहीं हुई है। जहां तक हमको पता है, सेक्युलर मोर्चा नहीं बना रहा है और शिवपाल से उनकी एक हफ्ते से कोई बात नहीं हुई है।