नोट बंद करने के फैसले को एक हफ्ते तक टालें-मुलायम

8
SHARE

500 और 1000 रुपये के नोट पर बंद करने के मोदी सरकार के फैसले पर चोट करते हुए मुलायम सिंह ने यादव ने कहा कि इससे कालाधन वसूलने के बजाय देश में अराजकता का माहौल पैदा हो गया है. मुलायम सिंह ने पीएम मोदी से अपील की है कि सरकार अपने इस फैसले को कम से कम एक हफ्ते के लिए टाल दे.

दिलचस्प बात ये है कि मुलायम से पहले उनकी धूर विरोधी और बीएसपी पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने भी मोदी सरकार के इस फैसले की जमकर आलोचना की और इसे आर्थिक इमरजेंसी करार दिया.

मुलायम सिंह ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि इस फैसले से आम जनता को अपनी ज़रूरत का सामान नहीं मिल रहा और सभी बाजार बंद हैं.

जनता की परेशानियों का जिक्र करते हुए मुलायम सिंह ने कहा, “हॉस्पिटल में ऑपरेशन और इलाज बंद है. हर तरफ-अफरा तफरी मची है. अस्पतालों में त्राहि त्राहि है. हज़ारों शादियां रुक गई हैं, जबकि भाजपा को चुनाव दिखाई दे रहा है.”

हालांकि, मुलायम ने ये जरूर कहा कि वो मोदी के इस फैसले के साथ हैं, लेकिन थोड़े वक्त के लिए राहत दी जाए. उनका तर्क था कि देश की उन करोड़ों महिलाओं को राहत दी जाए जो पाई-पाई जोड़ कुछ पैसा जमा करती हैं. उनकी मांग थी कि एक महिला को कम से कम 5 लाख जमा करने की छूट हो.

आपको बता दें कि सरकार ने एलान किया है कि अगर कोई शख्स 2.5 लाख रुपये जमा करता है तो सरकार उससे पूछताछ नहीं करेगी, लेकिन उसके बाद की रकम पर इनकम टैक्स डिपार्टेमेंट उनसे हिसाब करेगा और अगर कालाधन हुआ तो 200 फीसदी का जुर्माना लेगगा.