आगरा में रुपये चुराने पर मां ने बेटी की हत्या की

28
SHARE

आगरा में 150 रुपये चोरी करने पर माँ ने पहले बेटी को पीटा, फिर रात में सोते समय रस्सी से उसका गला घोंटकर मार डाला।

पोस्टमार्टम में हत्या की बात सामने आने पर घटना के 20 दिन बाद गुरुवार को पुलिस ने आरोपी मां को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

लोहामंडी के तेलीपाड़ा निवासी 46 वर्षीय शमीना अपने परिवार के साथ गुल्फाम के मकान में किराए पर रहती थी। उसकी 13 वर्षीय बेटी खुशी को मिर्गी के दौरे पड़ते थे और उसे पान मसाला खाने की लत थी। इसके लिए वह घर में रुपये चोरी कर लेती थी। 10 अगस्त की रात को उसने मकान मालिक के कमरे में घुसकर शर्ट से 150 रुपये चोरी कर लिए। मकान मालिक ने उसे रुपये निकालते देख लिया।

11 अगस्त की रात को उन्होंने शमीना को बताया तो मां उसे लेकर उनके पास पहुंच गई। उसे पटक-पटक कर लात घूसों से पीटा और गले पर पैर रखकर खड़ी हो गई। मकान मालिक ने उसे पीटते देखकर रोका और उसे अपने कमरे में ले जाने को कहा। रात को शमीना कमरे में जाने के बाद खुले में पति और चार बच्चों के साथ सो गई। खुशी कमरे में सो रही थी।

इंस्पेक्टर लोहामंडी जगदंबा सिंह ने बताया कि रात में जब सभी सो गए तब शमीना कमरे में गई और रस्सी से खुशी का गला घोंटकर मार दिया। सुबह किसी पड़ोसी ने पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस घर पहुंची तो परिवार वाले पोस्टमार्टम कराने से इनकार करने लगे। पुलिस ने गले पर रस्सी का निशान देखा तो परिजनों की मर्जी के बिना पोस्टमार्टम करा दिया।

इसमें गला घोंटकर हत्या करने की पुष्टि हो गई। पुलिस ने आसपास के लोगों के बयान लिए और सुबूत जुटाए। इसके बाद गुरुवार को शमीना को गिरफ्तार कर लिया। दोपहर बाद उसे जेल भेज दिया गया।

बेटी की हत्या करने के बाद शमीना पुलिस को कुछ भी बताने को तैयार नहीं थी। पोस्टमार्टम से स्पष्ट होने के बाद भी वह यही कह रही थी कि मिर्गी के दौरे के चलते ही वह मरी है। पुलिस ने उसके बेटों और पति को जेल भेजने को कह दिया। इसके बाद ही उसने सच कबूला। उसका कहना था कि बेटी की बुरी आदतों के कारण उसके बेटों की शादी में अड़चन पैदा हो रही थी। वह उससे परेशान हो चुकी थी। इसीलिए उसने हत्या कर दी।