बीजेपी के मोहरे कपिल मिश्रा, भाजपा और कांग्रेस नैतिकता का पाठ ना पढ़ाएं, केजरीवाल इस्तीफा नहीं देंगे

15
SHARE

रविवार को कपिल मिश्रा ने केजरीवाल पर 2 करोड़ रुपए की घूस लेने का आरोप लगाया जिसके बाद अब सोमवार को आम आदमी पार्टी ने एक प्रेस कांफ्रेंस बुलाई है|

आप प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि कपिल के आरोपों के पीछे एक गहरी साजिश है। कपिल आज वही भाषा बोल रहे हैं जो महीनों से भारतीय जनता पार्टी और केंद्र सरकार बोल रही है।

संजय ने कुछ महीने पहले कपिल मिश्रा द्वारा दी गई रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि उस वक्त तो कपिल ने कहा था कि एसीबी पर दबाव है और वो उन्हें वाटर टैंक मामले में फंसाना चाहती है। तो अब वही कपिल मिश्रा उसी एसीबी को टैंकर घोटाले के सबूत देने पहुंच गए। आखिर कपिल मिश्रा ये बात क्यों नहीं बता रहे हैं कि उन्हें रिश्वत लेते वक्त देखने के लिए किसने बुलाया, कितने बजे हुई ये घटना।

उन्होंने कहा भाजपा और कांग्रेस उन्हें नैतिकता का पाठ ना पढ़ाएं। केजरीवाल इस्तीफा नहीं देंगे। जब उन्हें लगेगा तब वो इस मामले में बोलेंगे। मंत्रीपद से हटाए जाने की वजह कपिल मिश्रा बौखला गए हैं। उन्होंने केंद्र सरकार को ये भी चुनौती द‌ी क‌ि हमारे 63-64 व‌िधायक बचे हैं उन्हें भी उठाकर त‌िहाड़ में डाल दें जो करना है करें लेक‌िन हम डरने वाले नहीं है।

टैंकर घोटाला मामले में महत्वपूर्ण सबूत लेकर दिल्ली सरकार के पूर्व जल मंत्री कपिल मिश्रा सोमवार सुबह 11 बजे एंटी करप्शन ब्यूरो के दफ्तर पहुंचे। उन्होंने एसीबी को सभी दस्तावेज सौंप दिए हैं।

सोमवार को पूर्व जलमंत्री कपिल मिश्रा एंटी करप्शन ब्यूरो के दफ्तर पहुंचे। बता दे एलजी ने इस मामले की जांच एसीबी को सौंप दी है। मीडिया के सवालों पर कहा कि अगर उनके आराेप पर शक हो तो अरविंद केजरीवाल, सत्येंद्र जैन और उनका लाई डिटेक्टर टेस्ट करा लिया जाए।

उन्होंने कहा मंत्री सत्येंद्र जैन ने अरविंद केजरीवाल को परसों (5 मई) 2 करोड़ रुपए कैश दिए। मैंने अपनी आंखों से देखा। उस वक्त मैं उनके घर पर ही मौजूद था।

रविवार को राजघाट पर उन्होंने महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी और एलजी अनिल बैजल से भी मुलाकात की थी। एलजी से मिलने के बाद ट्वीट किया चुप रहना असंभव था। एलजी को सब बता दिया। मैंने उन्हें गलत तरीके से पैसे लेते देखा, मैं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर आया, यहां ऊर्जा मिलती है। आम आदमी पार्टी हमारी, कार्यकर्ताओं की पार्टी है। हमने संघर्ष किया है तब यह पार्टी बनी। इसके लिए लाठी-डंडे खाए हैं। कभी इसे छोड़कर नहीं जाएंगे। कुछ गंदगी आ गई है उसे बाहर करना है। न मुझे कोई बाहर निकाल सकता है और न मैं इसे छोड़ूंगा। मंत्री बनने के बाद मैंने एक महीने के भीतर शीला दीक्षित के खिलाफ 400 करोड़ के वाटर टैंकर घोटाले की रिपोर्ट तैयार की। उसके बाद क्या हुआ ये सबने देखा। ऐसा नहीं है कि मैं मंत्री पद से हटने के बाद बोल रहा हूं। बोलने के बाद मुझे हटाया गया।

कैबिनेट का अकेला मंत्री हूं, जिस पर करप्शन का कोई आरोप नहीं लगा। कल जब तक मैंने एंटी करप्शन ब्यूरो को लेटर नहीं लिखा। तब तक पानी की परेशानी की बात क्यों सामने नहीं आई थी? मैं एलजी से मिला। मैंने संविधान की शपथ ली है, तो ये जिम्मेदारी बनती है कि जो मैंने आंखों से देखा, उसे उन्हें बताऊं। हम गड़बड़ी के मामलों की शिकायतों के लिए केजरीवाल पर भरोसा करते थे। चाहे वो रिश्तेदारों को पद देना, मनी लॉन्ड्रिंग या फंड में गड़बड़ी के आरोप हों।

कपिल ने आगे कहा भरोसा था कि केजरीवाल के रहते पार्टी में कोई बेईमान नहीं हो सकता। जब उनकी नजर में आएगा तो वो सब ठीक कर देंगे। यही उम्मीद हमें दो साल से प्रेरित करती थी।