आज संसद में मोदी रहेंगे मौजूद

7
SHARE
चार दिन की छुट्टी के बाद संसद में बुधवार को फिर से कामकाज शुरू होगा। लेकिन नोटबंदी के साथ-साथ हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट घोटाले में गृह राज्य मंत्री किरन रिजिजू के मुद्दे पर सदन में हंगामा होने के पूरे आसार हैं। इसे देखते हुए कांग्रेस और बीजेपी ने अपने-अपने सांसदों को व्हिप जारी कर सेशन के आखिरी तीन दिन दोनों सदनों में मौजूद रहने को कहा है। इसी बीच, केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने दावा किया कि मोदी सेशन के आखिरी तीन दिन सदन में मौजूद रहेंगे|
सूत्रों की मानें तो पीएम संसद में नोटबंदी पर बयान भी दे सकते हैं। इस मुद्दे पर चर्चा के लिए विपक्ष शुरू से ही पीएम की सदन में मौजूदगी की मांग करता रहा।सेशन के आखिरी तीन दिनों की स्ट्रैटजी तैयार करने के लिए विपक्षी दलों ने भी बुधवार सुबह बैठक बुलाई है।सूत्रों के अनुसार संसद में जारी गतिराेध खत्म करने के लिए सरकार ने अभी विपक्ष से संपर्क नहीं किया है। हालांकि, सत्ता पक्ष नोटबंदी पर चर्चा के लिए तैयार होने की बात कहता रहा है। बता दें कि इससे पहले लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही शुक्रवार को हंगामें के बाद बुधवार सुबह 11 बजे तक स्थगित हो गई थी|
केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने मंगलवार को कहा- “विपक्ष चाहता है कि पीएम सदन में आएं और उनकी गालियां सुनें। ऐसा निर्देश देने वाले वह कौन हैं? सरकार नोटबंदी पर चर्चा चाहती है। विपक्ष ही गोलपोस्ट बदल रहा है।पीएम सेशन के आखिरी तीन सदन में मौजूद रहेंगे।”
संसद का विंटर सेशन 16 नवंबर को शुरू हुआ था। नोटबंदी के मुद्दे पर लगातार गतिरोध जारी है।सेशन का आखिरी दिन 16 दिसंबर है। शुरुआत से ही विपक्ष मांग कर रहा है कि पीएम मोदी नोटबंदी पर सदन में बैठकर बहस सुनें।
कांग्रेसी लीडर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा- “विपक्ष पिछले हफ्ते चर्चा के लिए तैयार था। लेकिन सत्ता पक्ष के लोगों ने कार्यवाही नहीं चलने दी। अागे की स्ट्रैटजी बनाने के लिए विपक्षी पार्टियां बुधवार सुबह मीटिंग करेंगी।
 ससंद के दोनों सदनों में नोटबंदी की वजह से हंगामा जारी है। अगर यही हालात रहे तो विंटर सेशन पूरी तरह बेकार जाएगा। पार्लियामेंट की वेबसाइट के मुताबिक, लोकसभा में विंटर सेशन में 16% कामकाज ही हुआ है। वहीं, राज्यसभा में 19% फीसदी कामकाज हुआ|