योगी के मंत्री की गाडिय़ों ने फसल रौंदी, चार हजार दिया हर्जाना

34
SHARE

योगी सरकार में कारागार राज्य मंत्री जय कुमार सिंह ‘जैकी’ के गाडिय़ों के काफिला ने आज एक किसान की खड़ी फसल को रौंद दिया। इसके बाद किसान मंत्री के चरणों पर गिरा तब उसको चार हजार रुपया बतौर हर्जाना दिया गया।

योगी आदित्यनाथ सरकार में अपना दल कोटा से कारागार राज्यमंत्री जय कुमार सिंह जालौन में एक गौशाला का शिलान्यास करने आए थे। जैकी के साथ चल रहे गाडिय़ों के काफिला ने एक किसान खड़ी सरसों की फसल को रौंद दिया। मंत्री जय कुमार सिंह प्रियरंजनपुर गांव गए थे। उन्हें जिले में इसके अलावा कई अन्य कार्यक्रम में भी भाग लेना था। जब समारोह खत्म हो गया, तो दूसरी जगह जल्दी पहुंचने की कोशिश में उनकी गाडिय़ों के काफिले ने शॉर्टकट लेने के चक्कर में एक खेत में उगाई गई सरसों की फसल को तबाह कर दिया।

यह मामला उरई तहसील के ग्राम पियानिरंजनपुर इलाके का है। यहां कारागार राज्यमंत्री जय कुमार सिंह जैकी किसानों को गौशाला के रूप में एक तोहफा देने के लिये आए थे। जिससे जानवरों से किसानों की फसल को बचाया जा सके। मंत्री जी के वाहनों के काफिला ने एक किसान की फसल को बर्वाद कर दिया।

कारागार मंत्री का काफिला जिस खेत में खड़ा हुआ, उस खेत में सरसों की फसल थी। खेत दलित किसान देवेंद्र दोहरे का है। जिसने कर्ज लेकर फसल बोई थी। जब उसको फसल बर्बाद होने की जानकारी हुई तो वह दौड़कर मौके पर पहुंचा और मंत्री के पैरों में गिर गया।

मंत्री ने जब किसान को अपने चरणों पर गिरा देखा तो अपने साथ वाले लोगों को उठाने का इशारा किया और उसकी समस्या को सुनने का प्रयास किया। उसने अपनी फसल नष्ट होने की बात बताई तो मंत्री जी अपने आगे के कार्यक्रम में लग गए।

जब लोग इसके बारें में बात करने लगे तो मंत्री ने उसे अपने पास बैठा लिया और उसे उसका मुआवजा देने की बात कही। वहां पर शिलान्यास खत्म होने के बाद कारागार मंत्री ने नुकसान के तौर पर चार हजार रुपया देकर उससे पल्ला झाड़ लिया।

किसान देवेंद्र ने कहा कि मैंने कर्ज लेकर करीब तीन बीघा में सरसों की खेती की थी। जिसे मंत्री और सरकारी अधिकारियों की गाडिय़ों ने खराब कर दिया है। देवेंद्र दोहरे नामक इस किसान का कहना है कि उसने खेत में सरसों उगाने के लिए कर्ज लिया था, और तीन बीघा में उगाई उसकी पूरी फसल तबीह हो चुकी है। दोहरे के मुताबिक, फसल उगाने में उसके कुल 8,000 रुपये खर्च हुए। इसके बाद जब मंत्री के साथ मौजूद मीडिया ने उनसे सवाल करने शुरू कर दिए, तब उन्होंने देवेंद्र दोहरे को 4,000 रुपये मुआवज़े के तौर पर पकड़ाए।

 

हमको यहां 24 घंटे हमें खेत की रखवाली करनी पड़ती थी क्योंकि पशु फसल को नष्ट कर देते हैं। फसल में 200 रुपए घंटे के हिसाब से हमारा डीजल लगा है। इसके बाद भी हमारी फसल मंत्री के एक काफिले से बर्बाद हो गई है। मंत्री जय कुमार ने कहा कि सरकार किसानों के दर्द को समझती है और जिस किसान की फसल बर्बाद हुई है। उसके हिसाब से उसे 4 हजार रुपए मुआवजा दे दिया गया है।

मंत्री ने कहा कि किसान की फसल को जो भी नुकसान हुआ, उसके लिए हम उसे मुआवजा दे चुके हैं। हमारी सरकार किसानों के मुद्दों को लेकर बेहद संवेदनशील है। मैंने अभी उसे मुआवजे के तौर पर 4,000 रुपये दिए हैं।