जुनैद हत्याकांड का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

45
SHARE

22 जून को दिल्ली से मथुरा जा रही ईएमयू में सीट के विवाद में 16 साल के लड़के जुनैद की हत्या के मुख्य आरोपी गिरफ्तार हो गया है। पुलिस ने उसे शनिवार को महाराष्ट्र के धुले से गिरफ्तार किया। पुलिस आरोपी को महाराष्ट्र से फरीदाबाद लेकर आ रही है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, मुख्य आरोपी की पहचान अभी गुप्त रखी गई है। गिरफ्तार किया गया मुख्य आरोपी सीसीटीवी फुटेज में भी दिख रहा है। पुलिस ने उसके मोबाइल को सर्विलांस पर लगाया हुआ था। जिसके आधार पर उसकी गिरफ्तारी हुई। पुलिस के मुताबिक, मुख्य आरोपी ने जुनैद और उसके भाइयों को चाकू मारने की बात स्वीकार कर ली है। पुलिस रविवार को उसे कोर्ट में पेश करेगी।

इससे पहले सोमवार को हरियाणा राजकीय रेलवे पुलिस ने मुख्य आरोपी के सिर पर दो लाख के इनाम की घोषणा की थी। जीआरपी ने कहा था कि यदि इस मामले में मुख्य आरोपी से संबंधित कोई भी ऐसी जानकारी देता है, जिसके आधार पर अज्ञात आरोपी की गिरफ्तारी हो सके, उस व्यक्ति की पहचान को गोपनीय रखते हुए उसे 2 लाख रुपये का इनाम दिया जायगा।

जुनैद हत्याकांड में पुलिस इसके पहले 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है, लेकिन मुख्य आरोपी अब तक फरार था। बीते 29 जून को पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनमें से एक आरोपी 50 साल का है। वह दिल्ली सरकार का कर्मचारी है। दो आरोपी 20-20 साल के हैं। जबकि एक आरोपी 30 साल का है। इसके पहले पुलिस रमेश नाम के एक आरोपी को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

ये है पूरा मामला?
22 जून को जुनैद अपने तीनों भाई हाशिम, मोहसिन और मोइन के साथ ईद की खरीदारी कर दिल्ली से लौट रहा था। सदर बाजार स्टेशन से वे लोग ईएमयू में सवार हुए। उस समय सीटें खाली थीं तो वे लूडो खेलने लगे। कुछ देर में ईएमयू भर गई। इस बीच एक बुजुर्ग व्यक्ति आया और जुनैद से बाला ‘बेटा सीट दे दो’। इतना सुनकर जुनैद उठ गया और बुजुर्ग को अपनी सीट दे दी।

हाशिम ने बताया ओखला स्टेशन पर 20-25 लोग ईएमयू में सवार हुए और धक्का-मुक्की करने लगे। इन लोगों ने जुनैद को जोर से धक्का दिया, जिसका मैंने विरोध किया तो एक हमारे साथ बदसलूकी शुरू हो गई। कोई हम पर जातिगत टिप्पणी कर रहा था तो कोई बीफ खाने वाला बता रहा था। इस बीच वो बुजुर्ग व्यक्ति उठा जिसे हमने सीट दी थी और जुनैद को थप्पड़ जड़ दिया। इसके बाद 10-15 अन्य लोगों ने हमारे साथ मारपीट शुरू कर दी।