जिस दिन से महात्मा गांधी की तस्वीर रुपये पर छपी, कीमत घटनी शुरू हो गई, हरियाणा के मंत्री अनिल विज

7
SHARE

 

हरियाणा के मंत्री अनिल विज महात्मा गांधी पर दिए गए विवादित बयान से अपने लिए परेशानी खड़ी कर ली है अनिल विज की चौतरफा निंदा हो रही है| विरोधी दलों के साथ-साथ खुद उनकी पार्टी बीजेपी ने भी उनके बयान की कड़ी आलोचना की है|

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने कहा कि ये (विज) भारत के नालायक बेटे हैं, जो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को अपमानित कर रहे हैं| लालू ने कहा, मंत्री बने ऐसे लोगों को इस तरह का व्यवहार करते हुए थोड़ी भी शर्म नहीं आती है|

विज ने अंबाला में एक सार्वजनिक सभा में कहा कि महात्मा गांधी के नाम से खादी उत्पादों की बिक्री घट गई| जिस दिन महात्मा गांधी की तस्वीर रुपये पर छपी, उसकी कीमत घटनी शुरू हो गई| उन्होंने कहा कि कैंलेंडर और डायरी पर गांधी की जगह पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगाने का फैसला बिल्कुल सही है|

अनिल विज ने यह बयान खादी ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के नए साल के कैलेंडर और डायरी पर महात्मा गांधी की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर छपने के बाद शुरू हुए विवाद को लेकर दिया था| विज ने हालांकि बाद में अपना बयान वापस ले लिया|

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है कि देशवासियों को बीजेपी के नेताओं और मंत्रियों से इसी तरह के आपत्तिजनक और बेतुके बयानों की अपेक्षा करनी चाहिए|उन्होंने कहा कि खादी और गांधी इस देश के इतिहास हैं और देश की आत्मनिर्भरता की पहचान भी| शायद मोदी और अनिल विज को मालूम नहीं कि गांधी इस देश की आत्मा हैं और आत्मा को शरीर से अलग नहीं किया जा सकता|

महात्मा गांधी के पोते तुषार गांधी ने कहा- ये उनकी (विज की) मानसिकता का परिचायक है| ये बयान उन्होंने जरूर दिया है, लेकिन ये शब्द कहीं और से लिखकर आए हैं| ये उनकी पार्टी की विचारधारा का प्रतिबिंब है| ये एक सुनियोजित व्यूह रचना है, जिसको उन्होंने लागू किया है|

बीजेपी के नेता श्रीकांत शर्मा ने कहा कि ये अनिल विज का निजी बयान है. बीजेपी इस बयान की कड़ी निंदा करती है और उनके बयान से इत्तेफाक नहीं रखती है| केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह ने भी विज के बयान की निंदा की है|