यूपी बोर्ड के पाठ्यक्रम में महाराणा प्रताप शामिल होंगे

55
SHARE

यूपी बोर्ड के छात्र-छात्राएं अब महाराणा प्रताप के बारे में विस्तार से पढ़ेंगे। हाईस्कूल के पाठ्यक्रम में हल्दीघाटी नामक नया पाठ जोडऩे की तैयारी है। जून के ही अंत में ही पाठ्यचर्या समिति की बैठक बुलाकर इस पर मुहर लगेगी और नया पाठ 2018 के पाठ्यक्रम में शामिल होगा।

माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड ने पिछले माह में ही योग शिक्षा को पाठ्यक्रम में शामिल किया है। योग कक्षा नौ से 12 तक चरणवार तरीके से पढ़ाया और सिखाया जाएगा। इसी बीच प्रदेश सरकार ने महाराणा प्रताप के जीवन से छात्र-छात्राओं को परिचित कराने का निर्देश दिया है। यूपी बोर्ड ने इस संबंध में तैयारियां भी शुरू कर दी हैं। अभी हाईस्कूल व इंटर का वार्षिक परीक्षा परिणाम जारी करने में सभी अफसर लगे हैं। जून के अंत तक पाठ्यचर्या समिति की बैठक होगी। इसमें महाराणा के जीवन व हल्दीघाटी आदि चर्चित प्रसंगों में से कुछ हिस्से को हाईस्कूल के पाठ्यक्रम में शामिल कराने पर मुहर लगेगी।

सूबे की सरकार ने पिछले महीने महापुरुषों के नाम पर 15 सार्वजनिक अवकाश खत्म करने के समय ही यह निर्देश दिया था कि स्कूलों में महापुरुषों के नाम पर संगोष्ठी या फिर अन्य विविध आयोजन कराये जाएं, ताकि बच्चों को उनके कृतित्व और व्यक्तित्व की जानकारी मिल सके। उसी दिशा में बढ़ते हुए सरकार ने महाराणा के जीवन को यूपी बोर्ड के पाठ्यक्रम में शामिल करने का निर्देश दिया है। बोर्ड सचिव शैल यादव ने बताया कि पाठ्यचर्या समिति महाराणा के जीवन के जिस हिस्से को पाठ्यक्रम में शामिल करने को कहेगी वह 2018 से स्कूलों में पढ़ाया जाएगा।