लखनऊ TCS के एम्प्लॉई को झटका, कंपनी लखनऊ से अगले माह चली जाएगी

139
SHARE

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) ने लखनऊ में अपने कर्मचारियों को 4 से 5 हफ़्तों में लखनऊ से TCS के शिफ्ट होने का फैसला सुना दिया हैं। पिछले दिनों लखनऊ से TCS न शिफ्ट होने के मामले में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की TCS के सीओओ से मिलने की बात चल रही थी लेकिन अब सीएम योगी आदित्यनाथ ने मिलने से इंकार कर दिया है। जिससे TCS कर्मचारियों को निराशा हाथ लगी है।

बता दें कि TCS के लखनऊ से न शिफ्ट होने के मामले में उत्तर प्रदेश की राजनीति में भी चहलकदमी मच गई थी। उस दौरान प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या व भाजपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्या ने TCS के कर्मचारियों को आश्वासन दिया था कि इस मामले में बात करेंगे। जबकि सीएम योगी ने कहा था की TCS हमारी शान है, हम इसे जाने नहीं देंगे। बता दें कि TCS मुद्दे पर हुई मीटिंग में योगी आदित्यनाथ की जगह उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने प्रतिनिध‌ि मंडल से मुलाकात की। उन्होंने लखनऊ TCS के कर्मचारियों के हितों को देखने के उलट प्रतिनिधि मंडल को आश्वासन दिया कि वे कर्मचारियों को दूसरी जगहों पर भेजने में सहयोगपूर्ण वातावरण बनाने में सहयोग करेंगे।

TCS के इस फैसले से लखनऊ में या पूरे प्रदेश में इंजीनियरिंग छात्रों के करियर पर फुलस्टॉप लग गया है। उनकी उम्मीदें अब लगभग खत्म होने की कगार पर हैं। आईटी हब बनने का सपना साकार हो, इसके लिए टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस (टीसीएस) लखनऊ के क्षेत्रीय कार्यालय को यहां रोका जाना जरूरी माना जा रहा है। कंपनी यहां से निकलने की फिराक में है, जबकि यहां काम कर रहे कर्मचारी और लखनऊ के युवा नहीं चाहते कि टीसीएस यहां से जाए। इस पूरे मामले पर बातचीत के लिए टीसीएस के सीओओ एनजी सुब्रमण्यम और वाइस प्रेसीडेंट शुक्रवार को सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने गए थे।