लखनऊ मेट्रो का महिला ड्राइवरों ने किया ट्रायल रन

5
SHARE
गुरुवार को अखिलेश यादव ने लखनऊ मेट्रो को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। ट्रांसपोर्ट नगर से मवैया तक मेट्रो का ट्रायल रन किया गया।  ट्रेन को दो महिला ड्राइवर प्राची और प्रतिभा ने चलाया। दोनों ट्रेन ऑपरेटर्स ने बीटेक किया है। प्रतिभा इलाहाबाद की हैं, जबकि प्राची मिर्जापुर से हैं। मेट्रो के लिए 97 ड्राइवर हैं, जिसमें 21 महिला हैं। 2 महीने तक मेट्रो का ट्रायल जारी रहेगा। मार्च 2017 के अाखिर तक ये आम लोगों के लिए शुरू हो जाएगी|
अखिलेश ने कहा, “नेताजी ने यहां आकर सम्‍मान बढ़ाया है। समाजवादियों ने यह मिसाल पेश की है कि कम समय में बेहतर काम कैसे किया जाता है।समाजवादियों ने जो कहा, वो किया। मैनिफेस्‍टो में लखनऊ मेट्रो नहीं था, लेकिन फिर भी हमने इसे पूरा किया|”
मुलायम ने कहा, “मुझे खुशी है कि जो मेट्रो का समय दिया गया था, उस समय में ये पूरा हुआ। सपा की करनी और कथनी में कोई अंतर नहीं है। ये ऐतिहासिक मौका है। आने वाले चुनाव में हमें जिताएं, ताकि जो और वादे हमने किए हैं, उन्हें पूरा कर सकें।ये ऐतिहासिक दिन है। यूपी में 11 लाख बेरोजगार हैं। उन्हें रोजगार देना है।मैंने लोकसभा में भी कहा कि जो काम यूपी में हो रहा है, वो पूरे देश में नहीं हुआ है। हमने गरीबों, किसानों और मजदूरों के लिए काम किया।सीएम के साथ अनुभवी मंत्री काम कर रहे हैं। सीएम के काम की हर जगह तारीफ हो रही है|”
मुलायम ने कहा, “दुनिया की सबसे बहादुर सेना हिंदुस्‍तान की है, लेकिन फिर भी बॉर्डर पर जवान शहीद हो रहे हैं। दुख होता है।”एटम बम की धमकी दी जा रही है तो क्‍या हमारे पास एटम बम नहीं है, लेकिन सपा युद्ध के पक्ष में नहीं है।”सेना को छूट दे दी जाए तो पाकिस्‍तान खत्‍म हो जाएगा। मैंने जवानों के साथ लद्दाख में रात बिताई है। मुझे मालूम है कि कितनी कठिनाई होती है|”
अखिलेश ने क‍हा, “यूपी की जनता को बधाई देना चाहता हूं। नेताजी ने चुनौती पेश की थी कि समय में ये काम पूरा हो।एमडी केशव कुमार को बधाई, जिनकी वजह से ये संभव हो सका। मेट्रो मैन श्रीधरन को भी धन्‍यवाद, उन्होंने हमें गाइड किया।”गाजियाबाद में मेट्रो का काम शुरू किया है। कानपुर में भी मेट्रो शुरू होगी।इलाज, शिक्षा और बिजली के क्षेत्र में भी हमने काम किया है, जिससे लोगों के जीवन में बदलाव होगा। हम लोगों के साथ मेट्रो में सफर करेंगे।बड़े काम में राजनीति होती है। सैलरी आने वाली है, लेकिन किसी को नहीं पता कि ये आएगी भी या नहीं।बीजेपी ने अर्थव्‍यवस्‍था रोकने का काम किया है। हम जानना चाहते हैं कि बैंकों में कितना पैसा पहुंचा है|”
लखनऊ मेट्रो के चीफ एडवाइजर ई. श्रीधरन ने बताया कि लखनऊ मेट्रो 2 साल 2 महीने में बनकर तैयार हुई है। दिल्ली मेट्रो को सरकार ने 10 साल का समय दिया था, लेकिन दिल्ली मेट्रो ने सफर की शुरुआत करने में 7 साल लगा दिए। श्रीधरन के मुताबिक, इस समय देशभर में 12 प्रदेशों में मेट्रो चल रही है, जिसमें लखनऊ मेट्रो सबसे कम समय में बनकर तैयार हुई और चलना शुरू किया|मेट्रो के एक इंजीनियर ने बताया कि साढ़े 8 किमी के ट्रैक पर करीब 2 हजार करोड़ रुपए खर्च हुए। इसमें करीब 650 करोड़ रुपए सिविल वर्क में खर्च किए गए। इस पूरे सेक्शन में एलएंडटी ने सिविल वर्क किया है। लखनऊ मेट्रो को बनाने में 4 हजार मजदूर, 790 दिन और 2 करोड़ 53 लाख 16 हजार रुपए रोजाना खर्च लगा है|