नोटबंदी के बाद उपभोक्ता ने 45 लाख का बिजली बिल कैश में चुकाया

9
SHARE

सरकार के 500 और 1000 रुपये के नोट बंद करने के फैसले के बाद भारी मात्रा में नकद रखने वाले इसे खपाने में तरह-तरह के हथकंडे अपना रहे हैं. सरकार ने बिजली कंपनियों के बिल भुगतान के लिए 500 और 1000 रुपये के नोट को 24 नवंबर तक मान्य रखा है और लोग इस सुविधा का नाज़ायज़ फायदा भी उठा रहे हैं.

ऐसा ही एक मामला लखनऊ में पेश आया है. लखनऊ इलेक्ट्रीसीटी सप्पलाई एडमिनिस्ट्रेशन (एलइएसए) ने 10 नवंबर से 13 नवंबर के बीच कुल 93 करोड़ रूपये के बिल जमा होने की पुष्टी की है. एलइएसए के मुताबिक सरकार के फैसले के बाद बिजली बिल जमा करने के लिए लोगों की लंबी-लंबी लाइनें लग रही हैं. लोग कई महीने पूराने बिल के साथ आ रहे हैं और अपना-अपना बकाया भुगतान कर रहे हैं.

एक उपभोक्ता ने अपने पुराने बिलों का भुगतान करते हुए पूरे 45 लाख रुपये कैश जमा कराए, वहीं दो अलग-अलग लोगों ने 27 लाख और 28 लाख रुपये कैश में जमा कराए हैं.

गौरतलब है कि सरकार ने पुराने 500 और 1000 के नोटों को 24 नवंबर तक कई जगहों पर इस्तेमाल करने की छूट दी है, जिनमें एयरपोर्ट, सरकारी अस्पताल, रेलवे स्टेशन और सरकारी बिजली कंपनियां के बिल के भुगतान हैं.