योगी जी गुरु जैसे, हिंदूवादी होना गुनाह नहीं: अपर्णा यादव

166
SHARE

अपर्णा यादव ने कहा नेताजी के रामनाथ कोविंद से पुराने संबंध रहे हैं. अखिलेश की ओर से मीरा कुमार को समर्थन देने पर अपर्णा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी और समाजवादी पार्टी एक थे भैया (अखिलेश यादव) का मत था कि हमारी पार्टी कांग्रेस को समर्थन दें क्योंकि समाजवादी पार्टी के पास अपना उम्मीदवार नहीं था.

यूपी चुनाव में हार पर अपर्णा ने कहा कि उनके लिए मुलायम सिंह और अखिलेश यादव दोनों ही बड़े हैं. वह चाहती हैं कि पार्टी में दो फाड़ न रहे. उन्होंने कहा कि जब पार्टी में दरार पड़ी तो सभी को दुख हुआ. उनका कहना है कि अगर उस समय हम सरकार बना सकते थे लेकिन इस झगड़े की वजह से नहीं बना पाए. उन्होंने कहा कि वो कभी दोनों के राजनीतिक मुद्दों में दखल नहीं देती और उन्होंने अपनी लक्ष्मण रेखा खींच रखी है, बहू होने के नाते वह उस गरिमा में हैं.

समाजवादी परिवार की एकता पर अपर्णा ने कहा कि दोनों लोगों को एक होना चाहिए. उन्होंने कहा कि एक बहु का फर्ज है कि वह अपने सास-सुसर के साथ रहे ऐसे में नेताजी उनके अलग नहीं हैं. उन्होंने कहा कि सभी लोगों को साथ बैठकर यह विचार करना चाहिए कि आखिर ऐसा क्या हुआ जो पार्टी और परिवार में दरार पड़ गई.

बीजेपी और योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए अपर्णा यादव ने कहा कि हमारे कैडर के मुकाबले बीजेपी का कैडर काफी मजबूत है. उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी की नीतियां लोगों तक नही पहुंची और इसी वजह से हम सरकार बनाने में नाकान रहे. बीजेपी का कैडर अपने नेताओं के साथ आंधी-तूफान में भी खड़े रहते हैं और इसीलिए पार्टी में एकजुटता बनी रहती है. सीएम योगी की प्रशंसा करते हुए अपर्णा ने कहा कि योगी जी ने जो काम किया वह अच्छी मंशा से किया है. साथ ही उन्होंने एंटी रोमियो, कर्ज माफी जैसे योजनाओं की जमकर सराहना की.

अपर्णा ने कहा कि महंत रहते योगी जी का जो रुतबा था वह अब नहीं है. पहले वह सीएम भी नहीं थे लेकिन अब सीएम बनने के बावजूद वह जमीन से जुड़े हुए हैं. उन्होंने कहा कि वह मेरे लिए गुरु जैसे हैं साथ ही हिंदूवादी होना कोई गुनाह नहीं है. वह पूरे प्रदेश को साथ लेकर चलने वाले हैं धर्म-जाति और समुदाय से ऊपर उठकर वह हमेशा सभी की मदद के लिए तत्पर रहते हैं.

अपनी संस्था को सपा सरकार के वक्त में दी गई सरकारी राशि के खुलास पर सफाई देते हुए अपर्णा ने कहा कि हमारे एनजीओ को जो फंड मिला वह पूरी तरह कानूनी था. अखिलेश भैया ने हमारे काम को देखकर हमारी संस्था को फंड दिया. जिन्होंने मेरे ऊपर आरोप लगाए उनका मकसद सिर्फ राजनीति चमकाना था. उन्होंने कहा कि हम लोग दूध वाले हैं तो हम गाय के लिए काम करते हैं, यह हमें अच्छा लगता है. कोई अगर अच्छा काम करता है तो उसको फंड मिलना चाहिए. बीजेपी में शामिल होने के सवाल पर अपर्णा ने कहा कि वह नेताजी के साथ हैं और उन्हीं के साथ रहेंगी.