उत्तर प्रदेश के 14 खिलाडिय़ों को लक्ष्मण व लक्ष्मीबाई पुरस्कार, सैफई स्पोट्र्स कालेज अब मेजर ध्यानचंद स्टेडियम

43
SHARE

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मेजर ध्यानचंद के जन्मदिवस पर मनाए जाने वाले खेल दिवस पर खिलाडिय़ों को लक्ष्मण और लक्ष्मीबाई पुरस्कार देने से पहले इसकी घोषणा की। अब इटावा का सैफई स्पोट्र्स कालेज मेजर ध्यानचंद स्टेडियम कहलाएगा।

उन्होंने खिलाडिय़ों का हौसला भी बढ़ाया कि वे ओलंपिक में पदक हासिल करें। राज्य सरकार उन्हें केंद्र के समान ही स्वर्ण पदक हासिल करने पर छह करोड़, रजत पदक हासिल करने पर चार करोड़ और कांस्य पदक हासिल करने पर दो करोड़ रुपये दे रही है। ऐसा न हो कि यह धनराशि धरी ही रह जाए।

योगी ने अपने सरकारी आवास पर राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय खेलों में पदक हासिल करने वाले छह खिलाडिय़ों को लक्ष्मण पुरस्कार और आठ महिला खिलाडिय़ों को रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार के तहत तीन लाख ग्यारह हजार रुपये की धनराशि प्रदान की। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि एशियन गेम्स और कामनवेल्थ गेम्स में भी पदक हासिल करने वालों को सरकार इसी तरह धनराशि देगी। प्रदेश में खेल प्रतिभाओं की कमी नहीं है, उन्हें उपयुक्त मंच मिलने की जरूरत है, इसीलिए सरकार ने अवस्थापना सुविधाएं बढ़ाने की दिशा में कदम बढ़ाए हैं। क्रिकेटर रहे चेतन चौहान को मंत्री बनाने का भी यही उद्देश्य है कि युवा प्रतिभाओं को आगे निकलने का अवसर मिल सके।

उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने खेलों को राजनीति से अलग रखने पर जोर देते हुए सुझाव दिया कि किन्हीं तीन चार-खेलों पर पर ध्यान केंद्रित करके एशियन खेलों में पदक के लिए कार्ययोजना बनाई जाए। अगले खेलों तक पांच पदक भले ही न मिलें लेकिन प्रदेश से कम से कम दो पदक जरूर हों। जरूरी है कि खेलों में खिलाडिय़ों का प्रतिनिधित्व हो और उनके लिए लक्ष्य भी निर्धारित किए जाएं। खेल मंत्री चेतन चौहान ने कहा कि खेलों के प्रति प्रदेश की सोच में परिवर्तन हो रहा है। विधायक अपने यहां के लिए स्टेडियम मांगने लगे हैं।

उन्होंने कहा कि अब खेल को भी प्रोफेशन के रूप में अपनाया जा सकता है। पदक जीतने वालों को सरकार करोड़ों रुपये दे रही है। विराट कोहली जैसे क्रिकेटर साल में सवा सौ करोड़ कमाते हैं। कहा कि प्रदेश की सभी चयन समितियों में खिलाड़ी रखे गए हैं। इससे चयन पारदर्शी हुआ है। इससे पहले अपर मुख्य सचिव खेल इफ्तिखारुद्दीन ने अतिथियों का स्वागत किया। विशेष सचिव डीपी सिंह और खेल निदेशक आरपी सिंह ने अतिथियों की अगवानी की।

मुख्यमंत्री ने भारतीय महिला राष्ट्रीय टीम की क्रिकेटर पूनम यादव और दीप्ति शर्मा को आठ-आठ लाख रुपये दिए। आगरा की इन दोनों खिलाडिय़ों ने लंदन विश्वकप-2017 में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया था। भारत इसमें फाइनल तक पहुंचकर मामूली अंतर से हार गया था।

योगी ने आबकारी विभाग में विशेष सचिव सुहास एलवाई को बीजिंग (चीन) में हुई एशियन पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप (2016) की एकल स्पर्धा में गोल्ड मैडल लाने पर दस लाख रुपये दिए। सुहास ने मई 2017 में एंटालिया (टर्की) में हुई ओपेन इंटरनेशनल पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप में एकल और युगल वर्ग में स्वर्णपदक हासिल किए थे।

पुरस्कार पाने वाले खिलाडिय़ों की सूची
लक्ष्मण पुरस्कार (2016-17)
1. राहुल चौधरी, बिजनौर -कबड्डी
2. शनीष मणि मिश्र, गोंडा -सॉफ्ट टेनिस
3. सिद्धार्थ वर्मा, इलाहाबाद -जिम्नास्टिक्स
4. दानिश मुज्तबा, इलाहाबाद -फुटबाल
5. मो. असब, मेरठ – शूटिंग
6. रजनीश कुमार मिश्र, लखनऊ -हाकी (वेटरन वर्ग)

रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार (2016-17)
1. मजुला पाठक, देवरिया -हैंडबाल
2. सुशीला पवार, बागपत -भारोत्तोलन
3. श्रेया सिंह, इलाहाबाद -ताइक्वांडो
4. श्रेया कुमार, लखनऊ – सॉफ्ट टेनिस
5. गार्गी यादव, मेरठ -कुश्ती
6. प्रीति गुप्ता, बलिया – खो-खो
7. रंजना, गोरखपुर -हाकी (वेटरन वर्ग)
8. अंशु दलाल, बुलंदशहर -जूडो (वेटरन वर्ग)