मिर्जापुर में प्रसाद खाने से 100 बच्चों की तबियत ख़राब

42
SHARE

मिर्जापुर में सरस्वती पूजन के बाद मिले प्रसाद और रात के खाने के बाद जवाहर लाल नेहरू नवोदय विद्यालय में करीब 100 बच्चों की हालत बिगड़ गई। बच्‍चों को अचानक उल्टी और पेट दर्द होने लगा। गंभीर हालत देखते हुए स्‍कूल में ही बच्‍चों के लिए अस्थायी वार्ड बनाया गया, जहां उनका इलाज किया गया। 3 बच्चों को जिला अस्पताल में तो 4 स्‍टूडेंट्स को गुरुवार की सुबह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से जिला अस्पताल के लिए रेफर किया गया। कहा जा रहा है कि फूड प्‍वाइजनिंग की वजह से ऐसा हुआ है|

कुछ ही देर में इन बच्‍चों की संख्या 100 के करीब पहुंच गई, जिसमें 40 छात्राएं थीं। ये देख स्कूल प्रशासन के होश उड़ गए।आनन-फानन में स्कूल प्रशासन ने इसकी जानकारी आलाधिकारियों को दी। मौके पर पहुंची 4 एम्बुलेंस ने पीड़ित बच्‍चों को मड़िहान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया।वहीं, कुछ और गंभीर घायल बच्‍चों को मिर्जापुर के अस्पताल में पहुंचाया गया|
बता दें, जवाहर लाल नवोदय विद्यालय में करीब 500 से ज्‍यादा स्‍टूडेंट्स पढ़ते हैं।
स्‍टूडेंट्स का कहना है कि सरस्वती पूजा के प्रसाद में हमें दही और पंजीरी मिली। उसे खाने के बाद हमने खाना खाया, जिसके बाद पेट दर्द और उल्टियां शुरू हो गईं। जिला अस्पताल में संदीपा, प्रकृति और शिवशंकर को भर्ती कराया गया है। उनके परिजनों को भी घटना की सूचना दे दी गई है।मुख्य चिकित्साधिकारी विधू गुप्ता ने बताया कि सरस्वती पूजन के बाद बच्चों में पंचामृत बांटा गया था। बच्चों ने बताया कि दही का स्वाद कुछ ज्यादा खट्टा था। फूड प्वाइजनिंग होने की आशंका है। जिला अस्पताल के डॉ. तनुज सिंह ने ने बताया कि बच्चों की हालत स्थिर है। 24 घंटे पीड़ितों की निगरानी की जा रही है|