सीएम योगी पहुंचे केजीएयू के ट्रामा सेंटर, आग के कारण छह की मौत, जांच के आदेश

46
SHARE

शन‍िवार देर शाम केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर के डिजास्टर मैनेजमेंट वॉर्ड में अचानक आग लग गई। घटना के बाद फायरब्रिगेड की करीब डेढ़ दर्जन गाड़‍ियां मौके पर पहुंची और देर रात तक घंटों मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका।

किंग जार्ज चिकित्सा विश्र्वविद्यालय के ट्रामा सेंटर में लगी भीषण आग के वक्त ट्रॉमा सेंटर में चार सौ से ज्यादा मरीज भर्ती थे। आग लगने का कारण एसी में शार्ट सर्किट बताया जा रहा है।

घटना में हेमंत कुमार के अलावा लखनऊ के वसीम और अरविंद कुमार समेत 6 की मौत हो गई। तीनों की हालत गंभीर थी और एक अस्पताल से दूसरे में शिफ्ट करते वक्त जान गई। कई मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है।

कुलपति प्रो. एमएलबी भट्ट ने बताया कि जलने से किसी भी व्यक्ति मौत नहीं हुई है।

किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के ट्रामा सेंटर में कल रात लगी भीषण आग के कारण मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज वहां का दौरा कर रहे हैं। मुख्यमंत्री के आज केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में आगमन पर वहां सुरक्षा व्यवस्था काफी कड़ी कर दी गई है।

मुख्यमंत्री के दौरे के कारण ट्रामा सेंटर में अब किसी का भी प्रवेश बंद कर दिया गया है। उसको छावनी में बदल दिया गया है। मीडिया के प्रवेश पर भी बैन लगा दिया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ट्रामा सेंटर का निरीक्षण करने की सूचना से ही जिला तथा पुलिस प्रशासन हाई अलर्ट पर है। ट्रामा सेंटर में भारी संख्या में पुलिसबल मौजूद है। ट्रामा सेंटर में फिलहाल किसी को प्रवेश की अनुमति नहीं है।

सूचना म‍िलते ही डीएम कौशल राज शर्मा, एसएसपी दीपक कुमार सह‍ित सभी बड़े अध‍िकारी मौके पर पहुंच गए। सीएम ने मंडलायुक्त लखनऊ को 3 दिन में घटना की जांच करने के निर्देश दिए हैं और दोषी अधिकारियों के ख‍िलाफ एक्शन लेने को कहा है। वहीं, गृह मंत्री राजनाथ स‍िंह ने हर संभव सहायता करने का आश्वासन द‍िया है।

डॉ. एसएन शंखवार ने बताया, आग ट्रॉमा सेंटर के दूसरे और तीसरे फ्लोर पर लगी। आग लगने की वजह शॉर्ट-सर्क‍िट बताई जा रही है।

आग की सूचना म‍िलते ही मरीजों को बाहर न‍िकाला गया। करीब 150 मरीजों को 8 अलग-अलग सरकारी हॉस्प‍िटल में भर्ती कराया गया। कोई कैजुअल्टी नहीं हुई है। हालांक‍ि, हॉस्प‍िटल को काफी नुकसान पहुंचा है।

आईसीयू के तीन अलग-अलग वार्ड में कुल 43 मरीज थे। आईसीयू यूनिट में 6 मरीज, नॉर्मल आईसीयू यूनिट में 12 और नॉमर्ल यूनिट में 25 मरीज थे जिनको शताब्दी वार्ड, चिल्ड्रन और गांधी वार्ड में एडमिट कराया गया है।

बताया जाता है क‍ि ट्रॉमा सेंटर में करीब 300 मरीज भर्ती थे, ज‍िसमें से 37 वेट‍िंलेटर पर थे। 100 से ज्यादा मरीज को शताब्दी मेड‍िकल कॉलेज में एडम‍िट कराया गया है। वहीं, ट्रॉमा सेटर में पार्क‍िंग में नॉर्मल मरीजों का बेड श‍िफ्ट क‍िए गए हैं। इसके अलावा गांधी वार्ड समेत कई प्राइवेट यूनिट में शिफ्ट कराया गया है।

घटना की सूचना म‍िलते ही डीएम और एसएसपी समेत कई मंत्री मरीजों को देखने पहुंचे गए। अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य अनिता भटनागर जैन ने कहा क‍ि इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है।

हालांक‍ि, इमरजेंसी में रखे ऑक्सीजन के स‍िलेंडर, इलेक्ट्रॉन‍िक उपकरण सह‍ित मेड‍िकल की कई इमरजेंसी में यूज होने वाली मशीन समेत लाखों का नुकसान होना बताया जा रहा है।