बीजेपी का लखनऊ में यादव सम्मेलन, केशव प्रसाद मौर्य ने बुआ-बबुआ पर साधा निशाना

86
SHARE

लखनऊ। आगामी लोकसभा चुनावों को देखते हुए भारीतय जनता पार्टी की तरफ से आजकल पिछड़ी जातियों के सम्मेलन कराए जा रहे हैं और इसी के तहत आज लखनऊ में भारतीय जनता पार्टी पिछड़ा वर्ग यादव सम्मेलन हुआ। इस समारोह में राज्य के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने यादव समाज से विकास के नाम पर वोट की अपील की।

यादव वोटबैंक, समाजवादी पार्टी का परंपरागत वोटबैंक माना जाता है, लिहाजा डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के मुख्य निशाने पर समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव रहे, साथ ही उन्होंने बीएसपी चीफ मायावती पर भी पर जमकर‍ निशाना साधा। केशव मौर्य ने समाजवादी पार्टी के पारिवारिक झगड़े और हाल में शिवपाल सिंह यादव के अलग मोर्चा बना लेने और एसपी-बीएसपी की करीबियों पर एक साथ तंज कसते हुए कहा कि जब चाचा-भतीजे से नही पटी तो बुआ-बबुआ में कैसे पटेगी।

केशव प्रसाद मौर्य ने एसपी-बीएसपी के संभावित गठबंधन पर कहा कि यह निजी स्वार्थ के लिए बनाया गया गठबंधन है, कुछ समय बाद आपस में सब लोग लड़ने लगेंगे। यादव समाज को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि यादव समाज का गौरवशाली इतिहास रहा है और पिछड़े वर्ग का सम्मान और विकास बीजेपी ही कर सकती है।

भारतीय जनता पार्टी पिछड़ा वर्ग मोर्चा के तत्वाधान में आयोजित यादव समाज प्रतिनिधि बैठक लखनऊ उत्तर प्रदेश

Keshav Prasad Maurya ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಶುಕ್ರವಾರ, ಸೆಪ್ಟೆಂಬರ್ 14, 2018

 

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी विश्व की सबसे बड़ी पार्टी है, सबसे ज्यादा सांसद, विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष, नगरपालिका अध्यक्ष, सभासद इसी पार्टी के हैं। बीजेपी में ही कार्यकर्ताओं का सम्मान होता है और योग्य व्यक्ति सर्वोच्च पद तक जा सकता है।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति महामहिम रामनाथ कोविंद को सांसद का टिकट नही मिला लेकिन वह बिहार के राज्यपाल बने, बाद में राष्ट्रपति निर्वाचित हुए। अपना जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि मैं छोटे से गांव का आरएसएस का कार्यकर्ता था पहले विधायक बना, फिर 2014 में सांसद निर्वाचित हुआ।

बीजेपी के इस यादव सम्मेलन में बीजेपी के प्रदेश किसान मोर्चा के मंत्री डा. विजय यादव ने कहा कि बीजेपी ही किसानों की असली हितैषी है, सर्व समाज को आगे लेकर चल सकती है।