जापान में मोदी बोले- पहले गंगा में लोग चवन्नी नहीं डालते थे, अब नोट बह रहे हैं; बेईमानों को नहीं छोड़ूंगा, आजादी से अब तक का हिसाब लूंगा

6
SHARE
जापान दौरे पर गए नरेंद्र मोदी ने शनिवार को भारतीय कम्युनिटी के लोगों से मुलाकात की। नोट बंदी को लेकर मोदी ने चुटकी ली, ” पहले लोग गंगा में चवन्नी नहीं डालते थे, अब नोट बह रहे हैं।” उन्होंने ये भी कहा, “देश के गरीबों ने अमीरी दिखाई है। जनधन योजना में 45 हजार करोड़ जमा कराए गए। ये मेरे देश की ताकत है।” इससे पहले मोदी ने जापानी पीएम शिंजो आबे के साथ बुलेट ट्रेन का सफर किया। वे कोबे स्थित कावासाकी हैवी इंडस्ट्री भी पहुंचे, जहां उन्होंने बुलेट ट्रेन की हाईस्पीड टेक्नीक की जानकारी ली। शुक्रवार को जापान और भारत ने सिविल न्यूक्लियर डील पर साइन किए थे। भारत में गरीबों ने अमीरी दिखाई…
– “देश के 40 फीसदी गरीबों को खाता नसीब नहीं था। हमने गरीबों से कहा कि आपके पास एक भी पैसा नहीं होगा तो भी खाता खुलेगा।”
– “हमारे देश में गरीबों ने अमीरी दिखाई है। पहली बार गरीबों की अमीरी देखने का सौभाग्य मिला।”
– “गरीबों ने बैंक खातों में 45 हजार करोड़ जमा किए। ये है गरीबों की अमीरी। ये वो चीज है जो देश को जैसा चाहती है वैसा बनाने की ताकत रखती है।”
‘सवा सौ करोड़ भारतीयों को नमन करता हूं’
– मोदी ने कहा कि “नोटबंदी का फैसला मुश्किल था। मेरी टीम में सब इसके फायदे सोच रहे थे, मैं सोच रहा था कि तकलीफें क्या होंगी।
– “मैं सवा सौ करोड़ भारतीयों को नमन करता हूं कि मुश्किलों के बावजूद उन्होंने देश के लिए फैसले को स्वीकार कर लिया।”
‘राहुल पर निशाना- मुंह में उंगली डालकर पूछा लेकिन कोई नहीं बोला’
– मोदी ने कहा, “नोट बंदी के बाद लोगों को तकलीफ हुई। घर में शादी है, पैसे नहीं थे। मां बीमार थी, हजार का नोट नहीं चल रहा। लेकिन लोगों ने अपना काम किया।”
– राहुल गांधी के बैंक जाने पर मोदी ने चुटकी ली, “कोई 4 घंटे खड़ा रहा, कोई 6 घंटे। लोगों ने मुंह में उंगली डाल-डाल कर पूछा, लेकिन कोई कुछ नहीं बोला।”
‘दूसरी स्कीम नहीं लाउंगा, इसकी गारंटी नहीं है’
– विरोधियों और ब्लैकमनी होल्डर्स पर तंज कसते हुए मोदी ने कहा, “पहले पैसा जमा करने का मौका दिया था इसके बाद नोट बंद किए। दूसरी कोई स्कीम नहीं लाऊंगा, इस बात की गारंटी नहीं है। जो मुझे जानते हैं, उन्हें पता है कि मैं बेईमानों को छोड़ूंगा नहीं।”
– मोदी ने कहा, “नोट वापस करने के लिए 30 दिसंबर तक का समय है। पूरे देश के नागरिकों को नोट वापस करने के लिए इतना वक्त पर्याप्त है। जल्दबाजी मत करिए। ऐसा करेंगे तो मुश्किल हो जाएगी।”
‘आजादी से आज तक का हिसाब चेक करूंगा’
– मोदी ने ये भी कहा, “ईमानदारी का पैसा है तो कोई मुश्किल ही नहीं है। ईमानदारों की रक्षा के लिए मैं हमेशा खड़ा हूं, लेकिन बेईमान बचने वाले नहीं। अगर कोई बेईमान मिला तो आजादी से लेकर आज तक का हिसाब चेक करूंगा।”
‘पहले चवन्नी नहीं डालते थे, अब गंगा में नोट बह रहे हैं’
– मोदी ने कहा, “पहले गंगा में कोई चवन्नी नहीं डालता था, अब आज देखो, गंगा में नोट बह रहे हैं। चोरी का माल निकलना चाहिए।”
– “आम आदमी को शिकायत थी कि एक को फायदा है, दूसरे को नुकसान; पर अब सबके 500 के नोट निकल रहे हैं, मोदी के भी निकल रहे हैं।”|