पाकिस्‍तान में ISI चीफ की हुई छुट्टी

10
SHARE

पाकिस्‍तान में एक एक अहम घटनाक्रम के तहत सोमवार को शक्तिशाली आईएसआई चीफ रिजवान अख्‍तर को हटा दिया गया है| उनकी जगह लेफ्टिनेंट जनरल नवीद मुख्‍तार को नया आईएसआई चीफ बनाया गया है|नवीद मुख्‍तार, नवाज शरीफ सरकार के करीबी माने जाते हैं| मुख्‍तार के पिता, नवाज शरीफ की बेटी के ससुर के बिजनेस पार्टनर हैं| इस पृष्‍ठभूमि में माना जा रहा है कि शरीफ ने अपने विश्‍वस्‍त को आईएसआई चीफ बनाया है|पर्यवेक्षकों की नजर में अब शरीफ सैन्‍य हस्‍तक्षेप के बिना स्‍वतंत्र रूप से विशेष रूप से भारत और अफगानिस्‍तान के लिहाज से अपनी विदेश नीति को अंजाम देने में सक्षम होंगे| नवीद मुख्‍तार के पिता रिटायर्ड ब्रिगेडियर हैं| वह चौधरी मुनीर के बिजनेस पार्टनर हैं| चौधरी मुनीर के बेटे की शादी नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज से हुई है|

नवाज शरीफ सरकार के रिजवान अख्‍तर और 29 नवंबर को रिटायर हुए आर्मी जनरल राहील शरीफ के साथ मधुर संबंध नहीं थे|राहील शरीफ की जगह कमर जावेद बाजवा को नया सैन्‍य प्रमुख बनाया गया है| बाजवा को लोकतंत्र समर्थक माना जाता है| अब उसी की अगली कड़ी में इस बदलाव को देखा जा रहा है| रिजवान अख्‍तर और राहील शरीफ के दौर में नवाज विदेश नीति के मोर्चे पर ज्‍यादा कुछ करने की स्थिति में नहीं थे|

सितंबर में कश्‍मीर के उड़ी सैन्‍य शिविर पर आतंकी हमले के जवाब में भारत ने एलओसी के पार सर्जिकल स्‍ट्राइक किया था| उसके बाद ‘डॉन’ अखबार की एक रिपोर्ट के अनुसार समीक्षा बैठक में आर्मी और सिविल नेतृत्‍व के बीच गहमागहमी हो गई थी| इस रिपोर्ट के मुताबिक उस मीटिंग में नवाज शरीफ के भाई और पंजाब के मुख्‍यमंत्री शहबाज शरीफ और आईएसआई चीफ रिजवान अख्‍तर के बीच बहस हो गई थी| अब उनको हटाए जाने को खुफिया नाकामी और सरकार के साथ तल्‍ख रिश्‍तों के साथ जोड़कर देखा जा रहा है| रिजवान को नेशनल डिफेंस यूनिवर्सिटी का प्रमुख बनाया गया है|
पंजाब प्रांत में गुरु नानक की जन्‍मस्‍थली ननकाना साहिब से ताल्‍लुक रखते हैं| क्‍वेटा कमांड स्‍टाफ कॉलेज और इस्‍लामाबाद में नेशनल डिफेंस यूनिवर्सिटी में ग्रेजुएशन करने के बाद 1983 में सेना में कमीशन मिला| अमेरिका में पेंसिलवेनिया के अमेरिका वार कॉलेज में भी पढ़ाई कर चुके हैं| वह आईएसआई के आतंकवाद निरोधक दस्‍ते के निदेशक रह चुके हैं और इसके चलते सुरक्षा खतरों के बारे में बखूबी जानते हैं|संभवतया इसीलिए उनको आईएसआई चीफ के रूप में चुना गया|