क्या यूपी में शिवसेना-सुभासपा का गठबंधन होने वाला है?

26
SHARE

आगामी लोकसभा चुनावों के मद्देनजर सियासी उठापटक का दौर जारी है और इस बीच सुगबुगाहटें हैं कि एनडीए में भाजपा की सहयोगी पार्टियां शिवसेना और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी उत्तर प्रदेश में उसे झटका दे सकती हैं। शिवसेना लोकसभा चुनाव में भाजपा से अलग लड़ने का ऐलान पहले ही कर चुकी है। खबरें हैं कि पार्टी उत्तर प्रदेश में पैर पसारने की तैयारी में है और इसके लिए वह भाजपा के सहयोगियों के साथ मिलकर ही चुनावी समर में उतरने की रणनीति पर काम कर रही है।
खबरें हैं कि शिवसेना नेता संजय राउत, उत्तर प्रदेश में बीजेपी के सहयोगी और योगी सरकार में मंत्री सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर से मुलाकात भी कर चुके हैं। माना जा रहा है कि भाजपा के साथ ओम प्रकाश राजभर की बात नहीं बनी तो उनकी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी और शिवसेना आपस में हाथ मिला सकते हैं। ओम प्रकाश राजभर काफी अर्से से बगावती रुख अपनाए हुए हैं और उन्होंने भाजपा को 100 दिन का अल्टीमेटम भी दिया हुआ है उससे इन अटकलों को और बल मिल रहा है।

ओम प्रकाश राजभर ने पिछले दिनों भाजपा पर निशाना साधा था और बसपा सुप्रीमो मायावती की तारीफ की थी, इससे भी माना जा रहा है कि वह भाजपा का साथ छोड़ सकते हैं। भाजपा की तरफ से राजभर को तवज्जो नहीं दिया जाना भी इन अटकलों को बढ़ाता है।
दूसरी तरफ शिवसेना, उत्तर प्रदेश में अपने संगठन का विस्तार करने की दिशा में सक्रिय हो रही है। पिछले दिनों राम मंदिर निर्माण को लेकर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे अयोध्या पहुंचे थे। खबरें हैं कि शिवसेना यूपी की 25 लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारना चाहती है। ऐसे में राजभर के साथ बात बनी तो संजय राउत जल्द ही यूपी में गठबंधन का ऐलान भी कर सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो कम से कम पूर्वांचल में भाजपा का खेल बिगड़ सकता है जहां राजभर वोट अच्छी खासी संख्या में हैं।