क्या एनडीए सहयोगी ओम प्रकाश राजभर की सुभासपा अकेले लोकसभा चुनाव लड़ने जा रही है?

38
SHARE

उत्तर प्रदेश में भाजपा की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए सीटें चाहती है। पार्टी इसके लिए भाजपा पर काफी दिनों से दबाव भी डाल रही है लेकिन अभी तक कोई फैसला नहीं हो पाया है। अब सुभासपा नेता और पार्टी अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर के बेटे अरुण राजभर के हवाले से मीडिया में खबरें आ रही हैं कि सुभासपा यूपी में अकेले ही लोकसभा चुनाव लड़ने जा रही है, वह भी 50 से ज्यादा सीटों पर।

ओम प्रकाश राजभर लगातार कहते रहे हैं कि उनकी उत्तर प्रदेश की सभी 80 सीटों पर तैयारी है और उनकी पार्टी कहीं से भी चुनाव लड़ती है। वह भाजपा से फिलहाल पूर्वांचल की पांच सीटों की मांग करते रहे हैं लेकिन भाजपा के लिए उन सीटों पर फैसला कर पाना आसान नहीं है क्योंकि उन पर उसके सिटिंग सांसद हैं।

सीटों पर फैसला नहीं हो पाने पर ओम प्रकाश राजभर ने हाल में ही काफी नाराजगी जताई थी और उन्होंने भाजपा को 26 मार्च तक का अल्टिमेटम भी दे दिया था। बहरहाल भाजपा से अलग लोकसभा चुनाव लड़ने को लेकर उनकी तरफ से या फिर पार्टी की तरफ से अभी कोई आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है, अभी सिर्फ अरुण राजभर के हवाले से ही खबरें आ रही हैं कि सुभासपा अकेले लड़ने वाली है। पार्टी अपने स्टार प्रचारकों की लिस्ट भी जारी करक चुकी है जो यूपी और बिहार में प्रचार करेंगे।

वैसे राजभर अगर भाजपा से अलग होने का फैसला ले लेते हैं तो यह काफी जल्दबाजी वाला फैसला होगा। 2017 के विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी के 4 विधायक चुनाव जीते। खुद राजभर का दावा है कि उनकी पार्टी ने भाजपा को लगभग सवा सौ सीटों पर जीत दिलाने में मदद की। ऐसे में साफ है कि गरीब-वंचित जनता ने उनका साथ इसलिए दिया था कि वह सत्ता में आकर उनके लिए काम करें।

इसमें कोई शक नहीं कि ओम प्रकाश राजभर की पार्टी ने पिछले कुछ वर्षों में खासतौर पर भाजपा के साथ सत्ता में आने के बाद अपना जनाधार काफी तेजी से बढ़ाया है। लेकिन पार्टी को यह भी ध्यान रखना होगा कि उसका पहला मकसद वह होना चाहिए जिसके लिए जनता ने उसे चुना है, मौका दिया है।