अयोध्या में बरसों से बंद रामलीला का मंचन प्रारंभ कराया जाए, योगी आदित्यनाथ का आदेश

27
SHARE

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ लगातार बड़े फैसले ले रहे हैं. उत्तर प्रदेश के अयोध्या में बरसों से बंद पड़ी रामलीला का मंचन शुरू किया जाएगा. यह निर्देश राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिए हैं. उन्होंने कहा, अयोध्या में कई वर्षओं से बंद पड़ा रामलीला का मंचन प्रारंभ कराया जाए. इसी प्रकार मथुरा में रासलीला एवं चित्रकूट में भजन संध्या कार्यक्रम को सुचारू रूप से संपन्न कराया जाए. सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि अयोध्या में रामलीला का मंचन कई साल से बंद चल रहा था, जिसे फिर से शुरू करने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिए हैं. इससे पूर्व बुधवार को ही सीएम ने यूपी में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल करते हुए बड़े पैमाने पर IAS और IPS अफसर बदल दिए हैं. सहारनपुर के SSP लव कुमार को नोएडा भेजा गया है. इन्हीं के घर पर पिछले हफ्ते बीजेपी के कुछ लोगों ने जमकर हंगामा किया था.

मुख्यमंत्री ने काशी विश्वनाथ मन्दिर में ई-पूजा, ई-डोनेशन, कैलाश मानसरोवर यात्रा एवं सिन्धु यात्रा हेतु ऑनलाइन आवेदन एवं ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल वेबसाइट को आगामी 15 दिन में लॉन्च कराने के निर्देश दिए. योगी ने देर रात धर्मार्थ कार्य विभाग के प्रस्तुतिकरण के दौरान कहा कि धार्मिक स्थलों की सुरक्षा हेतु आवश्यकतानुसार बाउण्ड्री निर्माण के साथ-साथ तीर्थ यात्रियों एवं श्रद्धालुओं की सुविधा को दृष्टिगत रखते हुए अप्रोच रोड बनाने का कार्य प्राथमिकता पर सुनिश्चित कराया जाए.

उन्होंने कहा कि अयोध्या में 14.77 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित भजन संध्या स्थल का निर्माण कार्य जून 2018 तक निर्धारित मानक एवं गुणवत्ता के साथ प्रत्येक दशा में पूर्ण करा लिया जाए. चित्रकूट में भजन संध्या एवं परिक्रमा स्थल के निर्माण कार्य हेतु स्वीकृत 13.75 करोड़ रुपये से निर्मित होने वाले कार्यों को प्राथमिकता के साथ निर्धारित समय-सारिणी में पूर्ण कराना सुनिश्चित कराया जाए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सुप्रसिद्घ मंदिरों के संपर्क मार्ग चार लेन बनाए जाने के साथ-साथ जन सुविधा हेतु बैठने, विश्राम गृह, पेयजल सुविधाओं के विकास कार्य भी प्राथमिकता से सुनिश्चित कराए जाएं. धार्मिक स्थलों के धार्मिक तालाबों का जीर्णोद्घार एवं सौंदर्यीकरण का कार्य भी प्राथमिकता से सुनिश्चित कराया जाए. उन्होंने ब्रज चौरासी कोसी परिक्रमा परिपथ का विकास एवं जनसुविधा कार्य विकसित कराए जाने के निर्देश दिए.