कोलकाता में 60 करोड़ की लागत से बनी देश की पहली अंडरवॉटर मेट्रो टनल तैयार

95
SHARE

हुगली नदी पर देश की पहली अंडवाॅटर मेट्रो टनल बनकर तैयार हो गई है। यह हावड़ा को कोलकाता से जोड़ेगी। 16.6 किलोमीटर लंबे ईस्ट-वेस्ट मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए यह टनल बेहद अहम है। टनल के अंदर से मेट्रो ट्रेन 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गुजरेगी।

– यह टनल नदी के तल से 30 मीटर नीचे बनाई गई है।
– इसकी कुल लंबाई 520 मीटर है। यानी यात्री करीब 1 मिनट के लिए नदी के नीचे से गुजरेंगे।
– पूरे ईस्ट-वेस्ट प्रोजेक्ट की लागत करीब 9000 करोड़ रुपए है। सिर्फ अंडरवाॅटर टनल बनाने पर ही 60 करोड़ रुपए खर्च आया है।
– इस प्रोजेक्ट के लिए जापान बैंक ऑफ इंटरनेशनल कॉपरेशन ने पश्चिम बंगाल सरकार को 5000 करोड़ की मदद दी है।
– इस प्रोजेक्ट को कोलकाता मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (केएमआरसी) ने तैयार किया है।
– केएमआरसी के एमडी सतीश कुमार का कहना है कि ईस्ट-वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर पर ट्रेन 2020 तक चलने की उम्मीद है।
– इस टनल का काम पिछले साल अप्रैल में शुरू हुआ था। यानी यह 14 महीने में बनकर तैयार हुई।
– इस टनल के कम्पलीट होने से नदी के पश्चिम में स्थित हावड़ा स्टेशन पूर्व में स्थित महाकरन, सियालदह, साल्टलेक स्टेडियम, फूल बागान, सिटी सेंटर, बंगाल केमिकल्स, सेंट्रल पार्क, करुणामई और साल्ट लेक सेक्टर-5 स्टेशनों से जुड़ जाएंगे।
– बता दें कि हाल ही में नरेंद्र मोदी ने केरल की पहली मेट्रो ट्रेन का इनॉगरेशन किया था।
– यह देश की पहली मेट्रो सर्विस होगी, जिसमें वाॅटर मेट्रो भी होगी। इसके तहत शहर के 10 आईलैंड्स को बोट ट्रांसपोर्ट के जरिए जोड़ा जाएगा।
– पैसेंजर्स को मेट्रो स्टेशन तक पहुंचाने के लिए यह इंतजाम किया जा रहा है।
– वाटर मेट्रो पर करीब 819 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। यह सर्विस 2018 तक शुरू होने की उम्मीद है।

source-DB