वायुसेना ने पाकिस्तान में बैठे आतंकियों को घर में घुस कर मारा

49
SHARE

पुलवामा हमले में भारतीय जवानों की शहादत का बदला लेते हुए भारतीय वायुसेना ने बड़ी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान में छिपे बैठे जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को निशाना बनाया। वायुसेना के फाइटर मिराज 2000 विमानों ने बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों को ध्वस्त करते हुए एयर स्ट्राइक की।

इस कार्रवाई के बारे में बताते हुए विदेश सचिव विजय गोखले ने बताया कि 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में हुए आत्मघाती आतंकी हमले में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का हाथ था। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे, इसके अलावा ऐसी भी सूचना थी कि जैश के आतंकी भारत में एकबार फिर आत्मघाती हमले को अंजाम देने की साजिश रच रहे हैं।

उन्होंने कहा कि जैश, पाकिस्तान में पिछले 20 साल से आतंकी साजिश रच रहा है लेकिन पाकिस्तान उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहा था।  जैश का सरगना मसूद अजहर अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी है। जैश 2001 में भारतीय संसद पर हुए आतंकवादी हमले और जनवरी 2016 में पठानकोट हमले में भी शामिल रहा है। पाकिस्तान को इस आतंकी संगठन के बारे में कई जानकारी दी गई थी। बिना पाकिस्तान के संरक्षण के सैकड़ों जिहादी पैदा नहीं हो सकते हैं।

विजय गोखले ने कहा कि इस सूचना के बाद कि जैश के आतंकी भारत में और आत्मघाती हमले करने के फिराक में है, भारत द्वारा हमला करना जरूरी हो गया था। भारत ने एक नॉन मिलिटरी ऐक्शन की तैयारी की और बालाकोट में जैश के ठिकानों पर हमला कर जैश के कैंप को तबाह कर दिया गया। इस हमले में जैश के कई बड़े आतंकी, ट्रेनर, सीनियर कमांडर और जिहादी मारे गए। इस कार्रवाई में इस बात का ख्याल रखा गया कि आम नागरिकों को इससे कोई नुकसान नहीं हो।

विजय गोखले ने कहा कि 20 साल से जैश, पाकिस्तान से आतंक की साजिश रच रहा है। पाकिस्तान को कई बार जानकारी देने के बाद भी वह इन आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई से बचता रहा है। भारत का यह हमला बालाकोट में जैश के घने जंगलों में स्थित आतंकी ठिकानों पर किया गया ताकि आम नागरिकों को कोई नुकसान नहीं पहुंचे।