चीन की वन बेल्ट-वन रोड समिट में भारत नहीं लेगा हिस्सा, कश्मीर है वजह

74
SHARE

चीन की वन बेल्ट-वन रोड समिट में भारत हिस्सा नहीं लेगा। बीजिंग में दो दिन का ये समिट रविवार से शुरू हो रही है। इसमें 29 देश शामिल हो रहे हैं।

नॉर्थ कोरिया का डेलिगेशन भी आ सकता है। रूस के प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन और फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते के भी आने की संभावना है। पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ अपने 4 मुख्यमंत्रियों के साथ बीजिंग पहुंच चुके हैं। चीन एशिया से यूरोप तक सड़क, रेल और समुद्री मार्ग से अपना आर्थिक दबदबा कायम करना चाहता है।

भारत की ओर से समिट में कोई शामिल नहीं होगा, इस बारे में ऑफिशयली कुछ नहीं कहा गया। चीनी फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन गेंग शुआंग ने कहा, “हमें जितनी जानकारी है, बेल्ट एंड रोड फोरम में भारतीय अफसर हिस्सा लेंगे।”

भारतीय विदेश मंत्रालय के स्पोक्सपर्सन गोपाल बागले के मुताबिक, “भारत, क्षेत्र में कनेक्टिविटी को लेकर जोर देता रहा है लेकिन OBOR में पाकिस्तान की तरफ से समस्या रही है। इसकी वजह ये है कि OBOR का हिस्सा माना जाने वाला चीन-पाक इकोनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) पीओके से होकर गुजरेगा।”

बीजिंग में 14-15 मई को वन बेल्ट-वन रोड समिट शुरू हो रही है। इनमें से 29 देशों के प्रमुख बीजिंग में होने वाले सम्मेलन में पहुंच रहे हैं। कश्मीर मुद्दे के चलते चीन की वन बेल्ट-वन रोड समिट में हिस्सा नहीं लेगा भारत|