अमेरिका ने सरकारी विमानन कंपनी एयर कोरयो सहित देश की 23 कंपनियों तथा अधिकारियों को काली सूची में डाला

7
SHARE

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् ने एशियाई देश को राजनीतिक और आर्थिक रूप से अलग-थलग करने के लक्ष्य से प्योंगयांग के खिलाफ अभी तक के सबसे कठोर प्रतिबंधों वाला प्रस्ताव पारित किया था| उसके बाद अमेरिका ने यह फैसला किया है|अमेरिका के वितत विभाग ने शुक्रवार को यह प्रतिबंध लगाए हैं| इनका लक्ष्य कंपनियों और व्यक्तियों को वैश्विक वित्तीय प्रणाली से बाहर करना है| इसमें उत्तर कोरिया के कई बैंक, विनिर्माण कंपनियां, वाणिज्यिक कंपनियां और एक तेल कंपनी भी शामिल है|उत्तर कोरिया की ओर से 9 सितंबर को किए गए परमाणु परीक्षण के बाद अमेरिका ने सरकारी विमानन कंपनी एयर कोरयो सहित देश की 23 कंपनियों तथा अधिकारियों को काली सूची में डाल दिया है|

अमेरिकी प्रतिबंध सूची में एयर कोरयो नया नाम है| वित्त विभाग ने इसे उत्तर कोरिया के सैन्य नेटवर्क का हिस्सा बताया है क्योंकि उसके एक विमान ने जुलाई 2013 में ‘‘विक्टरी डे सैन्य परेड’’ में उड़ान भरी थी|विभाग का कहना है कि विमानन कंपनी ने उत्तर कोरिया के एससीयूडी-बी बैलिस्टिक मिसाइल प्रणाली के लिए कलपुजरे तथा अन्य उपकरणों का परिवहन किया था| साथ ही देश के नेता किम जोंग उन एयर कोरयो के चिन्ह वाले निजी विमान का प्रयोग करते हैं|

वित्त विभाग का कहना है कि नए प्रतिबंधों के तहत एयर कोरयो के 16 विमानों को ‘‘ब्लॉक’’ किया गया है, हालांकि उसने विस्तृत जानकारी नहीं दी|