राम राम जपना पराया काम अपना: अखिलेश यादव

53
SHARE

शुक्रवार को सीएम योगी आदित्यनाथ गाजियाबाद में यूपी गेट से राजनगर एक्सटेंशन तक जाने वाली एलिवेटिड रोड का उद्घाटन किया। सीएम ने साथ ही जिले में 1791.63 करोड़ की 19 परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया। पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने तंज कसते हुए अपने ट्वीटर पर लिखा कि राम राम जपना पराया काम अपना।

सीएम ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार आखिरी व्यक्ति तक विकास पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है। प्रदेश की पिछली सरकारों ने विकास को रोक रखा था। हमारी सरकार हर व्यक्ति की सुरक्षा देने के लिए प्रतिबद्ध है। पूर्व की सरकारों के द्वारा जातिवाद को बढ़ावा देते हुए प्रदेश को दंगे की आग में झोंकने का काम किया और विकास को प्राथमिकता देने के बजाय कमीशन खोरी और भाई भतीजा वाद को बढ़ावा देने का काम किया गया। जबकि बीजेपी की केंद्र और प्रदेश की सरकार देस में रामराज्य की स्थापना करना चाहती है पर वह तभी संभव है जब हर व्यक्ति को छत, बिजली और प्रत्येक परिवार को गैस सिलेंडर मिले।

सीएम ने कहा कि हम जिस वक्त सरकार में आए थे, उस समय मालूम हुआ था कि प्रदेश में चार करोड़ परिवार ऐसे हैं। जिनके यहां बिजली के कनेक्शन ही नहीं हैं। पहली बार प्रदेश के 35 लाख परिवारों को बिजली के नि:शुल्क कनेक्शन देने का काम किया गया। जिसमें चार लाख परिवार गाजियाबाद से हैं। विकास के लिए नियत और प्रयास की आवश्यकता है जिस तरफ प्रदेश की मौजूदा सरकार आगे बढ़ रही है।

सीएम योगी ने कहा कि जिस वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा देश में स्वच्छ भारत अभियान आरंभ किया था, उस वक्त सवाल उठ रहे थे कि क्या ये अभियान सफल हो सकेगा, लेकिन मौजूदा में कहा जा सकता कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश खासतौर से देश की राजधानी दिल्ली से लगे गाजियाद, हापुड, शामली, मुजफ्फरनगर आदि से दावे के साथ ये कहा जा सकता है कि ये अभियान कामयाब हुआ है।

सीएम योगी ने कहा कि पूर्व की सरकारों में अपराधियों से पुलिस वाले खौफखाते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं है। उन्होंने कहा कि बगैर किसी भेदभाव के विकास हो रहा है। बहन-बेटियों की सुरक्षा पर जोर दिया जा रहा है। सीएम ने नोएडा, ग्रेटर नोएडा में निजी बिल्डरों से आवंटियों की परेशानी के मुद्दे के लिए भी पूर्व की सरकारों को जिम्मेदार ठहराया। अब उद्दमी प्रदेश में आ रहे हैं।

सीएम ने कहा कि 1 अप्रैल, 2018 से प्रदेश में शुरू हो रहे गेहूं क्रय केंद्रों के लिए रुपये 1,735 प्रति कुन्तल की खरीद दर निर्धारित की गई है। इसके अलावा, किसान को 10 रुपये अतिरिक्त भुगतान भी किया जाएगा।

11,000 करोड़ रुपये की लागत से बनी 6 लेन एलिवेटिड रोड 10.30 किलोमीटर लंबी है। यह एलिवेटिड सड़क यूपी गेट से सीधे राजनगर एक्सटेंशन को जोड़ेगी। इस रोड के खुलने के साथ ही गाजियाबाद के लोगों का दिल्ली जाने की दूरी कम हो जाएगी। देश की सबसे लंबी छह लेन वाले एलिवेटेड रोड मानी जा रही है। 10.30 किलोमीटर की एलिवेटेड रोड का निर्माण नवंबर 2014 में शुरू हुआ था। गाजियाबाद विकास प्राधिकरण ने इसका निर्माण कराया है।

इन योजनाओं का किया शिलान्यास

– मधुबन-बापूधाम में 856 ईडीडब्ल्यूएस भवन – 131 करोड़ रुपये।
– एकीकृत ऊर्जा विकास योजना – 112.24 करोड़।
– अक्षय पात्रा द्वारा मिड-डे- मिल हेतु केंद्रीय किचन का निर्माण – 16.90 करोड़।
– ग्राम सिरोरा सलेमपुर में हिंडन नदी पर पुल – 16.50 करोड़।