यूपी में लागू नहीं होगी शराबबंदी: योगी के मंत्री का बयान

38
SHARE

विधानसभा में प्रदेश के आबकारी मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा कि आबकारी विभाग के राजस्व का जनकल्याण तथा विकास की अन्य योजनाओं में प्रयोग किया जाता है. शराब पर प्रतिबंध लगाने से प्रदेश में इसकी अवैध बिक्री को परोक्ष रूप से बढ़ावा मिलेगा और लोग अवैध स्रोतों से इसे खरीदने लगेंगे. इससे उनके स्वास्थ्य पर विपरीत असर पड़ेगा. इस प्रकार, व्यापक राजस्वहित और जनहित के मद्देनजर प्रदेश में शराबबंदी लागू किया जाना उचित प्रतीत नहीं होता.

संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि यह विडम्बना है कि कांग्रेस प्रदेश में शराबबंदी का मुद्दा उठा रही है, जिसने इस देश और प्रदेश पर 50 साल से ज्यादा समय तक राज किया.

उन्होंने कहा कि वह शराब का समर्थन नहीं करते हैं लेकिन इस पर पाबंदी लगाना भी व्यावहारिक रूप से सम्भव नहीं है. प्रदेश की पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी सपा सरकार पर निशाना साधते हुए खन्ना ने कहा, पिछली सरकार में अपहरण की घटना होने पर लोग अपहृत को छुड़ाने के लिये पुलिस के बजाय सपा नेताओं के पास जाते थे. उन्हें सपा को गुंडों और अपराधियों को संरक्षण देने के लिये नोबेल पुरस्कार मिलना चाहिए. सदन में सपा और विपक्ष के नेता राम गोविन्द चैधरी ने संसदीय कार्य मंत्री के इस बयान पर आरोप लगाया कि दरअसल, भाजपा अपराधियों को संरक्षण देने में लिप्त है.