भारत जीत से 87 रन दूर, अश्विन से भिड़े ऑस्ट्रेलियाई बैट्समैन

8
SHARE

धर्मशाला में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार मैचों की सीरीज के तीसरे मैच में टीम इंडिया ने पकड़ काफी मजबूत कर ली है. पहले दो दिन दोनों टीमों के बीच जोरदार संघर्ष देखने को मिला, लेकिन तीसरे दिन के खेल में टीम इंडिया पूरी तरह हावी नजर आ रही है. ऐसा ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा के करिश्माई प्रदर्शन के कारण संभव हुआ है. जडेजा ने 63 रन बनाने के बाद गेंद से भी धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए ऑस्ट्रेलिया को बैकफुट पर धकेल दिया. इसमें तेज गेंदबाज उमेश यादव और रविचंद्रन अश्विन का भी अहम योगदान रहा. दूसरी पारी में पूरी ऑस्ट्रेलियाई टीम 137 रन पर ही सिमट गई. रवींद्र जेडजा, आर अश्विन और उमेश यादव ने तीन-तीन विकेट, तो भुवनेश्वर ने एक विकेट लिया है. टीम इंडिया को यह मैच जीतकर सीरीज पर कब्जा करने के लिए 106 रन की जरूरत है. टीम इंडिया ने 19 रन बना लिए हैं. मुरली विजय (6) और लोकेश राहुल (13) क्रीज पर हैं.

न मैक्सवेल के अलावा कोई भी कंगारू बल्लेबाज टिक नहीं पाया. पहली पारी में भारत से 32 रन से पिछड़ने के बाद दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी लड़खड़ा गई. ग्लेन मैक्सवेल ने सर्वाधिक 45 रन बनाए, जिसमें 6 चौके और एक छक्का जड़ा. मैथ्यू वेड 25 रन पर नाबाद रहे. अन्य कोई भी बल्लेबाज टिक कर नहीं खेल पाया. 6 बल्लेबाज दहाई अंक तक भी नहीं पहुंचे. उमेश यादव ने डेविड वॉर्नर को 6 रन पर कीपर साहा के हाथों कैच कराकर भारत को पहली सफलता दिलाई, फिर भुवनेश्वर कुमार ने पहली पारी के शतकवीर स्टीव स्मिथ को बोल्ड कर दिया. इसके बाद उमेश ने मैट रेनशॉ को पैवेलियन की राह दिखाकर ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी को जोरदार झटका दिया. आज लंच से ठीक पहले ऑस्ट्रेलिया के पहली पारी के 300 रनों के जवाब में टीम इंडिया की पहली पारी 332 रनों पर सिमट गई. इस प्रकार टीम इंडिया को पहली पारी में 32 रनों की बढ़त मिली थी.

लड़खड़ाई ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी
सुबह के सत्र तक टीम इंडिया पर हावी दिख रही ऑस्ट्रेलियाई टीम चायकाल तक बिखर गई और दूसरी पारी में उसकी बल्लेबाजी चरमरा गई. चाय से 92 रन पर पांच विकेट गंवा चुकी कंगारू टीम के लिए चाय के बाद ग्लेन मैक्सवेल ने मैथ्यू वेड के साथ 14 रन ही जोड़े थे कि उनको अंपायर ने आर अश्विन की गेंद पर पगबाधा करार दिया. वास्तव में उन्होंने भीतर की ओर आ रही गेंद पर कोई शॉट ऑफर नहीं किया और विकेटों के सामने पकड़े गए. उन्होंने डीआरएस लिया, लेकिन ‘अंपायर्स कॉल’ हो गई. मैक्सवेल ने 45 रनों की पारी खेली जिसमें 6 चौके और एक छक्का लगाया. स्कोर में 15 रन और जुड़े थे कि जडेजा ने पैट कमिन्स को 12 रन पर रहाणे के हाथों कैच कराते हुए सातवां विकेट चटका दिया. 121 रन पर ही जडेजा ने आठवां झटका भी दे दिया. उमेश यादव ने नैथन लियोन के रूप में नौवां विकेट झटका. अंतिम विकेट अश्विन ने लिया और हेजलवुड को अपना तीसरा शिकार बनाया.

ऑस्ट्रेलिया का विकेट पतन : 1/10 (डेविड वॉर्नर- 6 रन), 2/31 (स्टीव स्मिथ- 17 रन), 3/31 (मैट रेनशॉ- 8 रन), 4/87 (पीटर हैंड्सकॉम्ब- 18 रन), 5/92 (शॉन मार्श- 1), 6/106 (ग्लेन मैक्सवेल- 45 रन), 7/121 (पैट कमिन्स- 12 रन), 8/121 (स्टीव ओकीफी- 0), 9/122 (नैथन लियोन- 0), 10/137 (जॉश हेजलवुड- 0)