करारी हार के बाद Twitter से गायब

13
SHARE

चुनाव में समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन को करारी हार झेलनी पड़ी. समाजवादी पार्टी को महज 47 सीटें ही मिल पाईं और कांग्रेस 7 पर सिमट गईं. पिछले 25 वर्षों में सपा का अभी तक का सबसे खराब प्रदर्शन है. बीजेपी 325 सीटें जीतकर प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आई.

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) के सत्ता से बाहर होने के महज कुछ ही दिन बाद राज्य सरकार के सोशल मीडिया के ‘हैंडल’ अचानक गायब हो गये. उत्तर प्रदेश सरकार के ट्विटर ‘हैंडल’ से किये गये ट्वीट हटा दिये गये और कई खातों को ‘अनफॉलो’ भी किया गया. सरकारी ट्विटर हैंडल ‘ऐट दि रेट सीएमआफिसयूपी’ पर बाद में स्पष्टीकरण आया कि ट्वीट ‘आर्काइव’ में डाले गये हैं, हटाये नहीं गये हैं.

एक अन्य सोशल मीडिया हैंडल ‘यूपी न्यूज 360’ से भी कई पोस्ट हटाये जा रहे हैं. ‘यूपी न्यूज 360’ सूचना एवं जनसंपर्क विभाग की पहल पर शुरू किया गया था, जिसका उद्देश्य ताजा समाचार और हेडलाइंस जनता तक पहुंचाना था.

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान अखिलेश यादव और उनकी पार्टी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव थी. कई फेसबुक और ट्विटर पेज से अखिलेश यादव का प्रचार किया जा रहा था. अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव की दोस्त पंखुड़ी पाठक ने समाजवादी सरकार के पक्ष में सोशल मीडिया में आईसपोर्ट अखिलेश के नाम से हैशटैग कैम्पेन की शुरुआत की थी, जो काफी सफल रही. इसके बाद उन्होंने राजधानी लखनऊ के राय उमानाथ बली प्रेक्षाग्रह में सोशल मीडिया मीट का आयोजन किया, जो बुरी तरह फेल साबित हुई. इस मीट में प्रेक्षागृह की कुर्सियां तक पूरी तरह से भर नहीं सकीं थीं.

समाजवादी पार्टी के नेताओं के अनुसार जो जिम्मेदारी पंखुड़ी को दी गई थी, उसमें वे उम्मीदों पर खरी नहीं उतरीं. इसलिए अब हाई प्रोफाइल और युवा चेहरा पंखुड़ी पाठक कम दिख रही हैं.