सोनभद्र में महिला को भरी पंचायत में डायन घोषित किया, 70 हजार जुर्माना

39
SHARE

सोनभद्र में सोमवार को डीएम व एसपी के पास एक मामला पहुंचा जिसमें एक महिला को भरी पंचायत में डायन घोषित कर दिया गया। उसे डायन के कलंक से मुक्त होने के लिए 70 हजार रुपए जुर्माने की शर्त रखी गई।

मांची थाना अंतर्गत चिचलिक गांव सोनभद्र के सुदूर जंगल में स्थित है। गांव में एक माह में दो महिलाओं की सर्पदंश से मौत हो गई। इस गांव की गुलपत्ती पत्नी नागेश्वर पर गांव की पंचायत ने डायन होने का आरोप लगाया है। इसे ऊपरी कोप मानते हुए गांव के बिहारी, इंद्रदेव यादव, रामदुलारे, जवाहिर, सकेंद्र, आशु, मैनेजर व रामगोली ने पंचायत बुलाई। इसमें 200 लोग आए। चौकीदार फुरकान अली भी था।

जिलाधिकारी को दिए शिकायती पत्र में पीड़िता ने बताया कि इसी पंचायत में दोनों मौत का जिम्मेदार उसे ठहराते हुए डायन घोषित कर दिया गया। उसके बाद 26 जुलाई को 50 हजार रुपये जमा करने का हुक्म सुनाया, भूत भगाने के लिए 20 हजार रुपये देने का आदेश दिया। ऐसा न करने पर नग्न कर घुमाने, बाल काटने, चेहरे पर कालिख पोतने का भी फरमान जारी किया गया है।

पीड़िता गुलपत्ती ने बताया कि उसे गांव से भाग जाने व ऐसा न करने पर मारने की धमकियां दी जा रही हैं। गुलपत्ती ने डीएम प्रमोद कुमार उपाध्याय व एसपी आरपी सिंह से जान माल की सुरक्षा की गुहार लगाते हुए शिकायती पत्र सौंपा है।

मांची थानाध्यक्ष नन्हेराम सरोज कहते हैं, मामले की जानकारी मुझे मिल गई है। जांच के लिए महुली चौकी प्रभारी को निर्देश दिया है। सत्यता मिलने पर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।