मेरठ में पूर्व मंत्री याकूब की बेटी ने स्कूल में घुसकर छात्राओं को चाबुक से पीटा

125
SHARE

मेरठ के छावनी इलाके में वेस्ट एंड रोड स्थित मेरठ पब्लिक स्कूल फॉर गर्ल्स में सोमवार सुबह पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी की बेटी ने एक दर्जन युवकों के साथ तालिबानी अंदाज में कक्षा में घुसकर चाबुक से छात्रा को पीटा और शिक्षक-शिक्षिकाओं से जमकर बदसलूकी की।

करीब 50 मिनट तक इन लोगों ने शिक्षण ठप रखा। मौके पर पहुंची पुलिस को प्रबंधन ने आंतरिक मामला बताकर लौटा दिया। विवाद की वजह छात्राओं के स्कूल से गैरहाजिर होने पर फटकार लगाना बताई जा रही है। एसएसपी मंजिल सैनी ने बताया कि एक अभिभावक की शिकायत पर मुकदमा दर्ज कर लिया है, कार्रवाई की जा रही है।

वहीं पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी कहते हैं, ‘मेरे परिवार की बच्ची सोमवार को भी स्कूल गई थी। उनके साथ कोई वारदात नहीं हुई और न ही मेरे परिवार से कोई सदस्य पिछले सप्ताह या सोमवार को स्कूल गया। मुझे नहीं पता फोटो में कौन है।’

सोमवार सुबह स्कूल की असेंबली खत्म होने के बाद पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी की बेटी एक गार्ड, चार युवतियों और दर्जनों युवकों के साथ स्कूल परिसर में जबरन घ़ुसी। पीटीआइ रीमा त्यागी व अलीशा नाम की छात्रा को सबक सिखाने का एलान करते हुए ये लोग ऊपरी मंजिल पर बने कक्षा आठ के कमरे में जा घुसे।

वहां अलीशा नाम की छात्र को चाबुक से पीटा। उसे बचाने पहुंची शिक्षिका ममता कपूर के साथ भी बदसलूकी की गई। करीब 50 मिनट तक हंगामा होता रहा। हमलावरों के कुछ बालक एमपीएस मेन विंग में भी पढ़ते हैं। मारपीट में ये भी शामिल रहे। शनिवार को भी इन छात्रों ने गमले उठाकर खिड़की के कांच तोड़े थे।

सोमवार सुबह स्कूल में प्रधानाचार्या मधु सिरोही नहीं थी। पीटीआइ रीमा त्यागी ने भी छुट्टी ले रखी थी। वारदात के दौरान डरी कई शिक्षिकाओं ने कमरे में स्वयं को छात्राओं के साथ बंद कर लिया। मेन गेट पर तीन गार्ड होने के बावजूद हमलावरों को नहीं रोका जा सका। घटना के समय 100 नंबर पर मिली सूचना पर पहुंची पुलिस को प्रबंधन ने आंतरिक मामला बताते हुए लौटा दिया।

पिता यूसूफ की तहरीर पर सदर थाने में रूमशा के परिजनों द्वारा अलीशा व अन्य छात्रओं से मारपीट की तहरीर पर मुकदमा दर्ज हुआ है। यूसूफ का कहना है कि इस तरह कक्षा में घुसकर हमला करने से स्कूल में असुरक्षित माहौल बन गया है। पुलिस सीसीटीवी फुटेज लेकर सख्त कार्रवाई करे। उन्होंने स्कूल से पुलिस के नाम मिला एक शिकायत पत्र भी दे दिया है जिसमें घटना का जिक्र है।