भारतीयों की अमेरिका में बसने की उम्मीदों को झटका, प्रवासियों की संख्या घटाकर आधी करने के लिए बिल पेश

9
SHARE

अमेरिका में ‘रेज एक्ट’ के पारित होने से वैध प्रवासियों की संख्या घटाकर आधी करने के लिए सीनेट में विधेयक (बिल) पेश किया गया है। ‘रेज एक्ट’ के पारित होने से ग्रीन कार्ड या अमेरिका में स्थायी निवास की ख्वाहिश रखने वाले भारतीय भी प्रभावित होंगे|

वर्तमान में रोजगार श्रेणियों में हजारों की संख्या में भारतीय ग्रीन कार्ड का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। अगर यह विधेयक कानून बन जाता है, तो इनको तगड़ा झटका लगेगा और ग्रीन कार्ड हासिल करने में भारी दिक्कत का सामना करना पड़ेगा। इस विधेयक में कई तरह के वीजा लॉटरी को भी खत्म करने का प्रस्ताव है|

रिपब्लिकन सीनेट टोम कॉटन और डेमोक्रेटिक सीनेटर डेविड पेर्डू ने इस विधेयक को पेश किया, जिसमें हर साल अमेरिका आने वाले अप्रवासियों की संख्या 10 लाख से घटाकर पांच लाख करने का प्रस्ताव रखा गया है। इन सीनेटरों ने हर साल जारी किए जाने वाले 10 लाख ग्रीन कार्ड की संख्या आधी करने की मांग की है|

2015 में 10 लाख 51 हजार 31 अप्रवासी अमेरिका पहुंचे। यदि रेज एक्ट पारित हो जाता है, तो हर साल अमेरिका पहुंचने वाले अप्रवासियों की संख्या 50 फीसदी कम हो जाएगी। पहले साल अप्रवासियों की संख्या घटकर छह लाख 37 हजार नौ सौ 60 हो जाएगी और 10वें साल यह संख्या पांच लाख 39 हजार नौ सौ 58 ही रह जाएगी।|