पीएम मोदी की आयुष्मान भारत योजना का लखनऊ में बुरा हाल, मरीज से कहा पीएम मोदी के ही पास जाओ!

10
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले दिनों आयुष्मान भारत योजना लॉन्च की थी और इस योजना को देश के गरीबों को भी अच्छा और सस्ता इलाज दिलाने की दिशा में क्रांतिकारी कदम बताया गया था, लेकिन यूपी की राजधानी लखनऊ में ही यह योजना दम तोड़ती नजर आ रही है। आरोप है कि इलाज करने वाले डॉक्टरों ने ये तक कह दिया कि आयुष्मान भारत योजना से इलाज कराना है तो पीएम मोदी के पास ही जाओ।

लखनऊ की किंग जॉर्ड मेडिकल यूनिवर्सिटी में शाहजहांपुर से आए एक मरीज के परिजनों ने अस्पताल के स्टाफ पर योजना का लाभ देने में आनाकानी करने का आरोप लगाया है। शाहजहांपुर के तिलहर क्षेत्र के माहो दुर्ग निवासी कमलेश (28) बिजली विभाग में संविदा कर्मचारी हैं। तीन दिन पहले बिजली के पोल पर काम करते वक्त वह करेंट लगने से झुलस गए। जिला अस्पताल ने उन्हें केजीएमयू रेफर कर दिया तो परिजन सोमवार तड़के उन्हें केजीएमयू ट्रॉमा सेंटर लाए, यहां कैजुअल्टी में दिखाने के बाद डिजास्टर वॉर्ड भेजा गया। मरीज के चाचा हरिश्चंद के मुताबित उन्होंने फ्री इलाज की बात कहते हुए अपने पास आयुष्मान भारत योजना का कार्ड होने की बात कही तो डॉक्टर भड़क गए। उनका आरोप है कि उन्हें कहा गया कि यहां मुफ्त इलाज नहीं होता। जाओ पहले मोदी से पैसा लेकर आओ, तब इलाज करेंगे।

परिजनों ने इसके बाद तिलहर के विधायक रोशन लाल को इसकी खबर दी और विधायक के दखल के बाद इलाज शुरू हो सका। परिजनों का ये भी कहना था कि उन्हें न सिर्फ बाहर से दवा खरीदकर लानी पड़ी, बल्कि मरीज की पट्टी खुद करनी पड़ी। मंगलवार देर शाम तक उन्हें 5 हजार रुपये से ज्यादा की दवा खरीदनी पड़ी, लेकिन योजना का लाभ मिलना शुरू नहीं हुआ।

इस मामले में विधायक रोशन लाल ने केजीएमयू प्रशासन पर नाराजगी जताते हुए इस मसले को विधानसभा में उठाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि यह उनके क्षेत्र का मामला है, अगर कोई सरकारी योजना का पात्र है तो उसे लाभ देने में आनाकानी क्यों की जा रही है। उन्होंने दावा किया कि इसकी शिकायत सीएम, मुख्य सचिव और स्वास्थ्य मंत्री से भी कर दी है।

इस मामले में शुरूआत में केजीएमयू प्रशासन का जवाब भी टालने और पीछा छुड़ाने वाला था। पहले ऐसी घटना से ही इनकार कर दिया गया, हालांकि बाद में केजीएमयू के मीडिया सेल प्रभारी डॉ. संतोष कुमार ने कहा कि दोषी डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।